मेरठ : RSS नेता का घर निशाने पर था, कम वक्त में ज्यादा पैसा कमाने के लिए रची थी ऐसी साजिश, हैरान कर देगी 'लेडी डॉन' की कहानी

 क्राइम ब्रांच ने मेरठ जिले के विजय नगर स्थित सर्राफा व्यापारी आरएसएस के शहर सह संयोजक विजयवीर रस्तोगी के घर लूट की कोशिश की घटना का खुलासा किया है। 
 | 
mrt
क्राइम ब्रांच ने मेरठ जिले के विजय नगर स्थित सर्राफा व्यापारी आरएसएस (RSS) के शहर सह संयोजक विजयवीर रस्तोगी के घर लूट की कोशिश की घटना का खुलासा किया है। Read Also:-दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल को कार से घसीटा, नशे में कार चालक ने की बदसलूकी, सड़कों पर रियलिटी चेक करने निकली थी

 

मेरठ में पुलिस ने सर्राफा कारोबारी के घर लूट करने में नाकाम रहे आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पूरी प्लानिंग की मास्टरमाइंड सराफ विजयवीर रस्तोगी की भतीजी भावना रस्तोगी निकली। जिसने अपनी बेटी और उसके प्रेमी के साथ मिलकर लूट की योजना बनाई थी। भावना ने भी पुलिस के सामने सच कबूला। पूछताछ में यह बात भी सामने आई कि लेडी डॉन भावना निजी ट्रेनिंग देने के बहाने घरों में घुस आती थी।

 आरोपी गिरफ्तार

एक आरोपी अलीपुर परीक्षितगढ़ निवासी आयुष त्यागी फरार है। जिसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है.

 mrt

बता दें कि 15 जनवरी की शाम को बदमाश विजय नगर स्थित सर्राफा व्यापारी विजयवीर रस्तोगी के घर में किराए का मकान लेने के बहाने घुस गए थे। इस दौरान घर के पालतू कुत्ते जिम्मी ने हमला कर घटना को होने से बचा लिया। थाना सिविल लाइन में मामला दर्ज किया गया है। एसएसपी ने घटना की जांच के लिए क्राइम ब्रांच को भी लगाया था।

 

जल्द अमीर बनने के लिए चुना अपराध का रास्ता
भावना की शादी शीशमहल में रहने वाले विकास रस्तोगी से हुई थी। दोनों की एक बेटी वंशिका थी। लेकिन भावना की अपने पति से नहीं पटती थी। पति-पत्नी में विवाद होता रहता था। इसके चलते भावना अपने पति से अलग रहने लगी। नौकरी पेशा नहीं थी, इसलिए अपराध को पेशा बना लिया।

 

भावना ने कम समय में ज्यादा पैसा कमाने के लिए डकैती का रास्ता चुना। वह अपनी बेटी वंशिका को भी अपराध की दुनिया में घसीट ले गई। वंशिका के साथ उसका प्रेमी विवेक भी शामिल था।

 

भावना ने बताया कि वह पर्सनल ट्रेनर भी हैं। पर्सनल ट्रेनर बनकर वह घरों में ट्रेनिंग के लिए जाती थीं। वह ट्रेनिंग के बहाने घरों की रेकी करती थी। इस बार उसका इरादा अपने चाचा विजयवीर के घर में डकैती डालने का था। इसके लिए उसने यह साजिश रची। लेकिन ऐन वक्त पर डॉगी जिमी ने शोर मचाया और वो फेल हो गई।

 

जब कुछ लोगों ने भावना से घटना के बारे में पूछा तो भावना ने बड़े विश्वास के साथ कहा कि वे तो गए थे, लेकिन काम नहीं हो सका। काम से उसका मतलब लूट से था। जिसे वह पूरा नहीं कर पाई।

 मेरठ पुलिस

जेल जाने का भी डर नहीं था
मीडिया के सामने भी लेडी डॉन के चेहरे पर कोई शिकन नहीं थी। भावना पूरे कॉन्फिडेंस और स्टाइल के साथ पहुंचीं। उसने अपने चेहरे के चारों ओर काले दुपट्टे को स्टाइलिश ढंग से लपेटा। लेडी डॉन का चेहरा ढका हुआ था लेकिन उसे जेल जाने का डर नहीं था जो उसके चेहरे पर साफ नजर आ रहा था। हर सवाल का जवाब भी देते रहे।
sonu

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।