दिल्ली में कोरोना संक्रमण के कहर के चलते रेस्टोरेंट और बार में खाने और पीने पर लगी रोक, नई कोरोना गाइडलाइन जारी

 कोरोना संक्रमण की बढ़ती दर को देखते हुए राजधानी दिल्ली में रेस्टोरेंट और बार में खाने पीने पर रोक रहेगी। हालांकि, यहां से खाना पैक किया जा सकता है और होम डिलीवरी की अनुमति जारी रहेगी।
 | 
Dekhi
कोरोना संक्रमण की बढ़ती दर को देखते हुए राजधानी दिल्ली में रेस्टोरेंट और बार में खाने पीने पर रोक रहेगी। हालांकि, यहां से खाना पैक किया जा सकता है और होम डिलीवरी की अनुमति जारी रहेगी। साथ ही जोन में एक दिन में सिर्फ एक साप्ताहिक बाजार की अनुमति होगी। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की सोमवार को हुई बैठक में यह फैसला लिया गया है। ये भी पढ़े:- Uttar Pradesh Corona Update: 24 घंटे में रिकॉर्ड 8334 संक्रमित मिले, इन चार जिलों में मिले 1000 से ज्यादा संक्रमित, 4 मरीजों की मौत, नई गाइडलाइन जारी

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की बैठक में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमाइक्रोन के बाद राजधानी में महामारी की स्थिति पर चर्चा हुई।  उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। हालांकि, कोरोना संक्रमण की बढ़ती दर को देखते हुए पाबंदियों की जरूरत पर भी जोर दिया गया।

सूत्रों की माने तो बैठक में विचार-विमर्श के बाद रेस्टोरेंट और बार में खाने पीने पर रोक लगाने का फैसला लिया गया है।  हालांकि, खाना पैक करने या होम डिलीवरी की सुविधा जारी रहेगी। रात के कर्फ्यू के कारण, रेस्तरां और बार को पहले10 बजे तक खोलने की अनुमति दी गई थी और रेस्तरां 50 प्रतिशत क्षमता के साथ काम कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, कैलाश गहलोत, डॉ. वीके पॉल, प्रो. बलराम भार्गव, डॉ. रणदीप गुलेरिया, डॉ. एसके सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

पूरे एनसीआर के लिए एक रणनीति
सूत्रों की माने तो डीडीएमए की बैठक में दिल्ली सरकार ने पूरे एनसीआर क्षेत्र में एक समान रणनीति बनाने का मुद्दा उठाया था। बैठक में बताया गया कि अभी दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू या अन्य पाबंदियां हैं। वहीं, एनसीआर में सब कुछ खुला रहता है। दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में हर दिन लाखों लोग आवाजाही करते हैं। यह प्रतिबंधों के प्रभाव को कम करता है। माना जा रहा है कि केंद्र पूरे एनसीआर में रणनीति बनाने पर राजी हो गया है। उत्तर प्रदेश और हरियाणा के एनसीआर शहरों के लिए केंद्र द्वारा कोई दिशानिर्देश या सलाह जारी की जा सकती है।

मेट्रो-बस पर कोई पाबंदी नहीं
डीडीएमए की बैठक में मेट्रो और बस में यात्रियों की संख्या आधी करने का प्रस्ताव रखा गया था। कहा गया कि लोगों की आवाजाही को सीमित कर संक्रमण की दर को कम किया जा सकता है। हालांकि इस प्रस्ताव पर सहमति नहीं बन सकी क्योंकि मेट्रो में यात्रियों की संख्या 50 प्रतिशत तक सीमित करने या क्षमता से मेट्रो गेट पर भारी भीड़भाड़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है। इसलिए अभी मेट्रो और बस में यात्रियों की संख्या सीमित करने का फैसला नहीं लिया गया है।

अंचल में एक दिन में सिर्फ एक साप्ताहिक बाजार
बैठक में साप्ताहिक बाजारों पर प्रतिबंध लगाने पर भी चर्चा हुई। लेकिन, साप्ताहिक बाजारों में पाबंदियां लगने से आशंका जताई जा रही थी कि दिल्ली से बड़े पैमाने पर पलायन शुरू हो जाएगा। इसे देखते हुए अभी एक जोन में सिर्फ एक साप्ताहिक बाजार की अनुमति है। वहीं, कोरोना संक्रमण की गति को रोकने के लिए साप्ताहिक बाजारों, सामान्य बाजारों और सभी सार्वजनिक स्थानों पर कोरोना अनुपालन व्यवहार का कड़ाई से पालन करने का निर्णय लिया गया। 

टीकाकरण की गति बढ़ाने पर जोर
उपराज्यपाल ने टीकाकरण की गति बढ़ाने पर जोर दिया। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को विशेष रूप से 15 से 18 वर्ष के आयु वर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण की गति बढ़ाने के निर्देश दिए। वहीं, कोरोना संक्रमण की दर को देखते हुए मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर को भी बढ़ाने के लिए कहा गया है। 

dr vinit

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।