कोरोना वायरस के नए वेरियंट ओमिक्रोन को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने क्या लगाए हैं प्रतिबंध, यहां पढ़ें नई गाइड लाइन के बारे में

कोरोना के बढ़ते मामलों और नए वेरिएंट ओमिक्रोन को रोकने के लिए योगी सरकार ने यूपी में एक बार फिर रात का कर्फ्यू लगा दिया है। इसके अलावा कोरोना प्रोटोकॉल भी जारी किया गया है। नए मामलों को देखते हुए सीएम योगी ने इस बार नई पाबंदियां लगाई हैं।  
 | 
new guide line

कोरोना के बढ़ते मामलों और नए वेरिएंट ओमिक्रोन को रोकने के लिए योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में एक बार फिर रात का कर्फ्यू लगा दिया है। इसके अलावा कोरोना प्रोटोकॉल भी जारी किया गया है। नए मामलों को देखते हुए सीएम योगी ने इस बार नई पाबंदियां लगाई हैं। सीएम योगी ने शनिवार से पूरे राज्य में रात का कर्फ्यू लगाने का आदेश दिया है। यह कर्फ्यू रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा। प्रोटोकॉल के तहत शादी समारोह में अधिकतम 200 लोग ही शामिल हो सकेंगे। सड़कों पर निकलने और बाजार जाने वालों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा। मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए शुक्रवार को टीम 9 की बैठक में ये निर्देश दिए। सीएम योगी ने कोविड प्रोटोकॉल जारी करते हुए कहा कि देश के अलग-अलग राज्यों में कोविड के मामलों में इजाफा हो रहा है। ऐसे में कुछ सख्त कदम उठाने की जरूरत है।Read Also:-बूस्टर डोज: 3000 लोगों पर होगा बूस्टर डोज ट्रायल, 6 महीने पहले वैक्सीन लेने वाले शामिल होंगे; फिर रिजल्ट आने से तय होगा फैसला

Read Also:-दवा कंपनी में बॉयलर फटने से 4 की मौत, एक दर्जन गंभीर रूप से घायल; एक किलोमीटर दूर तक टूटे भवनों के शीशे

मुख्यमंत्री के आदेश के बाद मुख्य सचिव ने जारी की गाइडलाइंस

  • सभी औद्योगिक इकाइयों को रात्रि कर्फ्यू से छूट। प्रत्येक औद्योगिक इकाई में कोविड हेल्प डेस्क एवं कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था अनिवार्य है। प्रतिदिन की रिपोर्ट औद्योगिक विकास विभाग को देनी होगी।
  • कोरोना कर्फ्यू में मालवाहक वाहन, एंबुलेंस के साथ ही कोविड से जुड़े कर्मचारी, पुलिसकर्मी व रात्रि उद्योग से जुड़े कर्मचारी अपना पहचान पत्र दिखा कर आ सकेंगे। 
  • शॉपिंग मॉल और सुपरमार्केट को मास्क, दो गज, सैनिटाइटर और कोविड हेल्प डेस्क के साथ खोलने की अनुमति।
  • शादी समारोहों और अन्य आयोजनों के लिए बंद जगहों पर मास्क की अनिवार्य आवश्यकता के साथ ही प्रवेश द्वार पर कोविड हेस्पडेस्क भी स्थापित करना होगा।
  • खुले स्थानों में, मेहमानों को एक बार में आवश्यक मास्क के साथ, क्षेत्र की क्षमता के 50 प्रतिशत के लिए आमंत्रित किया जा सकता है। प्रवेश द्वार पर COVID Hespdesk की स्थापना की जाएगी।
  • आयोजन स्थलों पर अतिथियों के बैठने की व्यवस्था में दो गज के प्रोटोकॉल का ध्यान रखना होगा। आयोजक ऐसे कार्यक्रमों की जानकारी जिला व पुलिस प्रशासन को लिखित रूप में अनिवार्य रूप से देंगे।
  • जिला मजिस्ट्रेट यह सुनिश्चित करेंगे कि विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए भारत सरकार द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन किया जाए।
  • उच्च जोखिम वाले देशों से आने वाले यात्रियों के लिए RTPCR अनिवार्य रूप से किया जाएगा। निगरानी समिति से दूसरे राज्यों से आने वाले यात्रियों की जानकारी लेने के बाद उनका RTPCR टेस्ट भी किया जाएगा। 
  • रेलवे स्टेशनों और बस स्टेशनों पर एंटीजन टेस्ट की प्रभावी व्यवस्था होगी. संदिग्ध यात्रियों की जानकारी लेने के बाद उनका आरटीपीसीआर टेस्ट किया जाएगा।
  • स्कूलों, कॉलेजों और शिक्षण संस्थानों के प्रबंधक और प्राचार्य छात्रों के बीच अनिवार्य मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजर की व्यवस्था करेंगे। 
  • निजी बसों में भी कोरोना प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।

दूसरे राज्यों से आने वाले सभी लोगों की ट्रेसिंग और टेस्टिंग
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के किसी भी राज्य या विदेश से यूपी की सीमा में आने वाले हर व्यक्ति की ट्रेसिंग-टेस्टिंग की जाए। बसों, रेलवे और हवाई अड्डों पर अतिरिक्त सतर्कता बरती जाए। तीसरी लहर को देखते हुए गांवों और शहरी वार्डों में निगरानी समितियों को फिर से सक्रिय करें। उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी की जानी चाहिए। जरूरत पड़ने पर लोगों को क्वारंटाइन और अस्पतालों में भर्ती कराएं।

तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए तैयारियों की जांच करें
सीएम ने कहा कि कोविड की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए हमने पूर्व में व्यवस्थित तैयारी की है, जिसकी दोबारा जांच होनी चाहिए. राज्य के सभी सरकारी/निजी चिकित्सा संस्थानों में उपलब्ध चिकित्सा सुविधाओं की बारीकी से जांच की जाए। औद्योगिक इकाइयों में कोविड हेल्प डेस्क और डे केयर सेंटर को फिर से सक्रिय करें। कोविड से बचाव के लिए ट्रेसिंग, टेस्टिंग, उपचार और टीकाकरण की नीति के समुचित क्रियान्वयन से राज्य में स्थिति नियंत्रण में है। मुख्यमंत्री ने टीकाकरण में तेजी लाने के भी निर्देश दिए।

Vaccination की स्थिति
19 करोड़ 14 लाख 94 हजार से अधिक कोविड टीकाकरण और 09 करोड़ 14 लाख से अधिक परीक्षण कराकर उत्तर प्रदेश परीक्षण एवं टीकाकरण देश में प्रथम स्थान पर है।
यहां 06 करोड़ 73 लाख 17 हजार से अधिक लोगों को टीके की दोनों खुराक देकर कोविड का सुरक्षा कवच मुहैया कराया गया है।
12.41 मिलियन लोगों को वैक्सीन की पहली खुराक मिल चुकी है।
इस प्रकार, राज्य की कुल जनसंख्या में से 84.23 प्रतिशत ने टीकाकरण के लिए पात्र लोगों को पहले और 45.66 प्रतिशत लोगों को प्राप्त किया है।

dr vinit

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।