ट्रैफिक के नए नियम: अब कम स्पीड (Slow Speed) में गाड़ी चलाने वालों की भी खैर नहीं, अब फटा फट काटे जायेगें चालान

ट्रैफिक रूल्स अपडेटेड : अब सरकार खुद चाहती है कि हाईवे पर वाहनों की रफ्तार तेज हो। ऐसा नहीं करने वालों पर जुर्माना भी लगाया जाएगा। यह चालान 500 रुपये से 2000 रुपये के बीच का होगा।
 | 
traffic challan
Traffic Rules Updated : रोड पर गाड़ी चलाते समय हमें इस बात का खास ख्याल रखना होता है कि कहीं चालान न कट जाए। सरकार की ओर से कई ऐसे नियम हैं जिनका पालन करना जरूरी है। आमतौर पर लोगों को तेजी से गाड़ी चलाने का खामियाजा भुगतना पड़ता है। लेकिन अब यह डर उन लोगों के लिए भी है जो धीमी गति से वाहन चलाते हैं। क्योंकि अब धीमी गति से वाहन चलाने पर भी चालान काटा जाता है।Read Also:-काम की खबर : राशन की दुकानों पर भी जमा कर सकेगें बिजली और पानी का बिल, पासपोर्ट और पैन कार्ड भी बनवा सकते हैं, सरकार ने शुरू की ये नई सुविधा

 

इस हाईवे पर नहीं चलेगी 'धीमी रफ्तार'
दरअसल अब सरकार खुद चाहती है कि हाईवे पर वाहनों की रफ्तार तेज हो।  लेकिन ऐसा नहीं करने वालों का चालान भी काटा जाता है। यह चालान 500 रुपये से 2000 रुपये तक का हो सकता है। ऐसा ही दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर किया जाएगा। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे देश के टॉप क्लास हाईवे में से एक है।

 

चालान नियम क्या है?
आपको बता दें कि देश में ज्यादातर हादसे ओवरटेकिंग के दौरान होते हैं। ओवरटेक करते समय आपको अपने वाहन की गति का विशेष ध्यान रखना होगा। विशेष रूप से एकल सड़कों पर ओवरटेक करते समय चालकों को बहुत सावधान रहना पड़ता है। इसी तरह अब यदि आप एक्सप्रेस-वे पर गाड़ी चला रहे हैं तो ओवरटेक करते समय निर्धारित गति सीमा से कम वाहन चलाने पर भी आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है।

 

यह एक्सप्रेस-वे अक्सर जाम रहता है
गौरतलब है कि यह बेहतरीन हाईवे अभी भी पूरी तरह बनकर तैयार नहीं हुआ है। दिल्ली से मेरठ के रास्ते में गाजियाबाद के लालकुआं फ्लाईओवर के पास आज भी इस हाईवे पर निर्माण कार्य चल रहा है। गाजियाबाद से मेरठ जाते समय क्रासिंग रिपब्लिक सोसाइटी विजय नगर के सामने इस हाईवे पर अक्सर जाम की स्थिति देखी जा सकती है।

 

ओवरटेक करने से होते हैं हादसे
आपको बता दें कि दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस-वे पर गति सीमा 100 किमी प्रति घंटा है और बड़े वाहनों के लिए गति सीमा 80 किमी प्रति घंटा है। NHAI के मुताबिक, 'हाईवे और पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर ज्यादातर हादसे ओवरटेकिंग की वजह से होते हैं। इन पर नियंत्रण करना प्राधिकरण की प्राथमिकता है। इन मार्गों पर दुर्घटनाओं का दूसरा कारण यह है कि कुछ लापरवाह चालक प्राधिकरण द्वारा निर्धारित गति सीमा से कम गति से वाहन चलाते हैं। अब तक NHAI निर्धारित गति सीमा के भीतर ड्राइविंग को बढ़ावा देता था। लेकिन अब निर्धारित गति सीमा से कम पर ओवरटेक करने और वाहन न चलाने में सावधानी बरतने की जानकारी भी प्रचारित की जाएगी।

 

धीमी रफ्तार वालों का भी काटा जाएगा चालान
इन नए विज्ञापनों में यह भी उल्लेख किया जाएगा कि यदि चालक निर्धारित सीमा से कम गति से वाहन चलाते हुए पकड़े जाते हैं, तो उनका 500 से 2000 रुपये तक का चालान भी काटा जाएगा. जिस प्रकार निर्धारित गति से अधिक गति से वाहन चलाने वालों का चालान काटने का नियम है।
garauv

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।