मेरठ : स्वांगशाला एक्टिंग अकादमी के कलाकारों ने समरेश बसु के प्रसिद्ध नाटक "काली रात के हमसफ़र" नाटक का किया मंचन

चौधरी चरण विश्वविद्यालय के  प्रेक्षागृह में क्रांति दिवस की पूर्व संध्या पर किया गया कार्यक्रम आयोजित।
 | 
rangmanch actors play the skit in ccsu seminar hall at meerut
यूपी के मेरठ स्थित चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के प्रक्षागृह में क्रांति दिवस की पूर्व संध्या पर स्वांगशाला के कलाकारों ने सांप्रदायिक सौहार्द पर केन्द्रित बंगाल के मशहूर लेखक समरेश बसु की कहानी "आदाब" पर आधारित नाटक काली रात के हमसफर की शानदार प्रस्तुति दी।

 

यह कार्यक्रम चौधरी चरण सिंह विश्विद्यालय के उर्दू विभाग और स्वांगशाला एक्टिंग अकादमी के संयुक्त तत्वाधान में "एक शाम क्रांति दिवस के नाम" मेंआयोजित किया गया।  यह भी पढ़ें - Shr Lanka Crisis : श्रीलंका में उग्र प्रदर्शन के चलते हालात बेकाबू, सांसद की मौत, कर्फ्यू लगाया गया, प्रधानमंत्री ने दिया इस्तीफा
ccs
सीसीएय यूनिवर्सिटी क प्रेक्षागृह में नाटक का मंचन करते कलाकार।

 बंगाल विभाजन की रात का दृश्य दिखाया


नाटक  में बंगाल विभाजन के वक़्त की वो काली स्याह रात दिखाई गई जिसमें  सूत मज़दूर कृष्णा और अब्दुल मांझी फंस जाते हैं। भय-रोमांच के ताने-बाने को लेकर बुने गए इस नाटक ने राजनीति पर तंज कसते हुए भाईचारे के साथ रहने की सीख दी। नाटक में दिखाया गया कि आतंकियों और गुंडों का कोई मज़हब नहीं होता। नाटक के एक-एक कलाकार के प्रस्तुतिकरण को  दर्शकों ने करतल ध्वनियों से सराहा। 
ccsu
सीसीएय यूनिवर्सिटी क प्रेक्षागृह में नाटक का मंचन करते कलाकार।
अब्दुल मांझी के किरदार को वरिष्ठ रंगकर्मी और स्वांगशाला एक्टिंग अकादमी के निदेशक भारत भूषण शर्मा और कृष्णा की भूमिका को वरिष्ठ रंगकर्मी  हेमंत गोयल ने जीवंत कर दिया। स्वांगशाला के निदेशक अनिल कुमार शर्मा ने संगीत के जरिए और वरिष्ठ रंगकर्मी जितेंद्र सी राज़ ने नाटक में जान फूंक दी ।
ccsu
सीसीएय यूनिवर्सिटी क प्रेक्षागृह मे हुए कार्यक्रम में दीप प्रज्वलित करते अतिथि।

इन्होंने किया अभिनय


कट्टर हिंदूवादी के रूप में वरिष्ठ रंगकर्मी योगेश समदर्शी और कट्टर मुस्लिम के किरदार को सुनील सैनी ने बखूबी दर्शाया। नाटक की सूत्रधार स्वाति शर्मा रहीं। मेकअप और स्टेज डेकोरेशन आबिद सैफी ने खूबसूरती से संभाली। नाटक में लुटेरे के किरदार में जतिन और शादाब ने समां बांध दिया। नाटक के अन्य किरदारों में स्वांगशाला के साजिद व उर्दू विभाग के शमशाद, इमरान और फैजान दिखाई दिए।
ccsu
सीसीएय यूनिवर्सिटी क प्रेक्षागृह मे हुए कार्यक्रम में नाटक का मंचन करते कलाकार।

यह नाटक सामाजिक समरसता का परिचायक : डॉ. असलम


स्वांगशाला एक्टिंग अकादमी की चेयरपर्सन डॉ. सुधा शर्मा ने कलाकारों की सराहना करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उर्दू विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. असलम जमशेदपुरी ने नाटक को सामाजिक समरसता का परिचायक बताया। उन्होंने कहा कि यह सिलसिला जारी रहना चाहिए समाज और देश को एक सूत्र में पिरोने के लिए आज छोटे-छोटे मंचन की बहुत आवश्यकता है।

priyanka

devanant hospital

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।