Connect with us

Hi, what are you looking for?

काम की खबर

EMI, Personal Loan, Home Loan लेने वालों के लिए महत्‍वपूर्ण सूचना, लोन मोरेटोरियम पर सुप्रीम कोर्ट ने यह कहा

EMI, Personal Loan, Home Loan लेने वालों के लिए काम की खबर है। लोन मोरेटोरियम के मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट में एक महत्‍वपूर्ण सुनवाई हुई। इसके तहत कोर्ट ने लोन मोरेटोरियम की अवधि के दौरान ब्याज माफी की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई की।

सुप्रीम कोर्ट ने ब्याज माफी या ऋण स्थगन मामले में सुनवाई फिर से शुरू की

कोर्ट ने शुक्रवार को सरकार को निर्देश दिया कि वह कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर दो करोड़ रुपये तक के लोन की आठ निर्दिष्ट श्रेणियों पर ब्याज माफी के अपने फैसले को लागू करने के लिए सभी कदम उठाना सुनिश्चित करे। लोन्स की आठ श्रेणियों में एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम), शिक्षा, हाउसिंग, कंज्यूमर ड्यूरेबल, क्रेडिट कार्ड, ऑटोमोबाइल, पर्सनल और खपत शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट ने ब्याज माफी या ऋण स्थगन मामले में सुनवाई फिर से शुरू कर दी है। SC के सामने याचिकाकर्ता ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान लोगों का क्रेडिट स्कोर प्रभावित हुआ है और यह भुगतान की भविष्य की संभावनाओं को प्रभावित करेगा। अदालत ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र को मोरेटोरियम के लाभार्थियों तक लाभ पहुंचाने की व्यवस्था करनी होगी।वसूली के लिए बैंकों से बहुत परेशानी का अनुभव होता है। ब्याज माफी के रूप में एक और राहत की आवश्यकता है।

बैंक व्यापार के सामान्य नियमों का पालन कर सकते हैं

Advertisement. Scroll to continue reading.

शीर्ष अदालत ने गजेंद्र शर्मा के आवेदन का निपटारा कर ब्याज माफी की मांग की। सुप्रीम कोर्ट ने 02 दिसंबर, 2020 तक के लिए मामला स्‍थगित करते हुए कहा है कि बैंक व्यापार के सामान्य नियमों का पालन कर सकते हैं। भारतीय बैंकों के लिए हरीश साल्वे ने कहा कि लोगों को अयोग्य खातों से पैसा आ रहा है। कोर्ट को को खातों को NPA के रूप में वर्गीकृत करने से रोकते हुए आदेश वापस लेने पर विचार करना चाहिए। यदि एनपीए नहीं है, तो कम से कम बैंकों को ओवरड्राफ्ट सुविधाओं को रोकने की अनुमति दें।

SC : मोरेटोरियम पर फैसले को अमल कराए केंद्र

सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि वह आठ प्रकार के लोन पर मोरेटोरियम अवधि के ब्याज पर ब्याज नहीं लेने का लाभ सभी संबंधित ग्राहकों तक पहुंचाना सुनिश्चित करे। शुक्रवार को जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने अपने आदेश में कहा कि कोरोना से उत्पन्न परिस्थितियों की वजह से कारोबार जगत को कठिन समय से गुजरना पड़ रहा है। ऐसे में वित्त मंत्रालय की योजना के मुताबिक लाभार्थियों को इसका लाभ मिलना सुनिश्चित करें। कोर्ट मोरेटोरियम की अवधि के दौरान किस्त चुकाने से मिली छूट के बाद कर्जदाताओं द्वारा ब्याज पर ब्याज वसूले जाने के मामले की सुनवाई कर रहा था।

Advertisement. Scroll to continue reading.

2 करोड़ तक कर्ज लेने वालों से मोरेटोरियम अवधि का ब्याज पर ब्याज नहीं लिया जाएगा

ब्याज पर ब्याज न वसूले जाने की योजना तैयार वित्त मंत्रालय और रिजर्व बैंक आफ इंडिया पहले ही सुप्रीम कोर्ट को हलफनामा दाखिल कर बता चुके हैं कि सरकार ने मोरेटोरियम अवधि का ब्याज पर ब्याज न वसूले जाने की योजना तैयार की है और 2 करोड़ तक कर्ज लेने वालों से मोरेटोरियम अवधि का ब्याज पर ब्याज नहीं लिया जाएगा। यह भी बताया था कि 2 करोड़ तक के कर्ज पर चक्रवृद्धि ब्याज और साधारण ब्याज के बीच का वसूला गया अंतर कर्जदारों के खातों में वापस कर दिया गया है। अगली सुनवाई 2 दिसंबर को

जस्टिस अशोक भूषण, आर सुभाष रेड्डी और एमआर शाह की बेंच इस मामले की सुनवाई 2 दिसंबर को फिर से शुरू करेगी। अब उस तारीख को यह सुनवाई पूरी होने की संभावना है। सरकार के लिए एससी के लिए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, आर्थिक स्थिति के अनुसार, विभिन्न मुद्दे राजकोषीय मुद्दे पर निर्णय लेने के लिए सरकार के लिए खेलते हैं। क्रेडाई मुंबई टू एससी की ओर से कपिल सिब्बल ने कहा, आरबीआई और सरकार की स्थिति यह है कि इस परिमाण की आपदा के बावजूद अनुबंध संबंधी प्रावधानों का पालन करना होगा। 1 सितंबर को उद्योग का 98 प्रतिशत एनपीए हो जाएगा। ये सरकार के आंकड़े हैं। अगर अदालत हमारी सुरक्षा नहीं करती है, तो हम किसी भी राहत के हकदार नहीं होंगे। अगर SC ने सुरक्षा नहीं दी तो बिल्डर किसी भी राहत के हकदार नहीं होंगे।

Advertisement. Scroll to continue reading.

लोन मोरेटोरियम पर अभी तक क्‍या हुआ, एक नजर देखें

  • भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने मार्च में तीन महीने के लिए सावधि जमा की अदायगी के लिए स्थगन की घोषणा की थी, जिसे बाद में 31 अगस्त तक बढ़ा दिया गया था। इस कदम का उद्देश्य COVID-19 महामारी के दौरान उधारकर्ताओं को राहत प्रदान करना था।
  • SC ने 3 सितंबर को बैंकों को निर्देश दिया था कि वे अगले आदेश तक खातों को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (NPA) घोषित न करें।
  • अक्टूबर में केंद्र ने कहा कि वह कुछ श्रेणियों में 2 करोड़ रुपये तक के ऋणों के पुनर्भुगतान पर चक्रवृद्धि ब्याज माफ करेगा, एक ऐसा कदम जो व्यक्तिगत और एमएसएमई उधारकर्ताओं को राहत प्रदान करेगा।
  • शीर्ष अदालत ने 19 नवंबर को केंद्र और आरबीआई को पीठ के समक्ष रखे गए सुझावों का जवाब देने का निर्देश दिया था। SC ने उन याचिकाओं का भी निपटारा किया, जिनमें याचिकाकर्ता चक्रवृद्धि ब्याज माफी से संतुष्ट हैं।
  • SC ने पहले कहा है कि “ब्याज पर ब्याज लेने में कोई योग्यता नहीं है”।
  • आरबीआई ने 4 जून को कहा था कि अगर कर्ज की अवधि पूरी तरह खत्म हो जाती है तो कर्जदाताओं को 2 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा।
  • COVID-19 महामारी के दौरान उधारकर्ताओं को राहत देने के उद्देश्य से, आरबीआई ने मार्च में तीन महीने के लिए सावधि जमा की अदायगी के लिए स्थगन की घोषणा की थी, जिसे बाद में 31 अगस्त तक बढ़ा दिया गया था। इस कदम से उधारकर्ताओं को अधिक समय देने की उम्मीद थी।

इस मामले में कब क्‍या हुआ

  • आरबीआई ने 4 जून को कहा था कि अगर स्थगन अवधि के दौरान ब्याज माफ कर दिया जाता है तो बैंकों को 2 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा।
  • पीठ ने 5 अक्टूबर को छह महीने की ऋण स्थगन अवधि के दौरान ब्याज की माफी की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई की। शीर्ष अदालत ने अतिरिक्त हलफनामे दायर करने के लिए केंद्र और भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को समय दिया।
  • 2 अक्टूबर को, केंद्र ने शीर्ष अदालत को बताया कि वह 2 करोड़ रुपये तक के ऋण के पुनर्भुगतान पर चक्रवृद्धि ब्याज माफ करेगा।
  • 3 सितंबर को, सुप्रीम कोर्ट ने बैंकों को निर्देश दिया था कि वे अगले आदेश तक खातों को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) घोषित न करें।

जानिये 19 नवंबर को हुई सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई की खास बातें

  • शीर्ष अदालत ने 19 नवंबर को केंद्र और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को निर्देश दिया था कि वह याचिका दायर करते समय पॉवर सेक्टर के सुझावों का जवाब दे, जिसमें याचिकाकर्ता कंपाउंड ब्याज माफी से संतुष्ट हैं। अंतिम सुनवाई में राहतें मांगी गईं थीं।
  • आरबीआई एलआईसी, एआईएफ, एफपीआई, विदेशी बैंकों से उधार ली गई धनराशि के पुनर्गठन की अनुमति देता है। RBI वर्तमान में केवल बैंकों, NBFC, सहकारी संस्थाओं द्वारा पुनर्गठन की अनुमति देता है।
  • पुनर्गठन उधारकर्ताओं द्वारा अनुरोध के अधीन होना चाहिए, ऋणदाता के विवेक के अधीन नहीं होना चाहिए।
  • पुनर्गठन में फोरेंसिक ऑडिट जैसे तार्किक अभ्यास की आवश्यकता होती है। इन जैसी आवश्यकताओं को दूर किया जाना चाहिए।
  • बैंक गारंटी के आह्वान जैसे ज़बरदस्त उपाय करने से कर्जदाताओं को रोकना चाहिए।
Click to comment

Leave a Reply

You May Also Like

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Follow me on Twitter

DMCA.com Protection Status