Connect with us

Hi, what are you looking for?

काम की खबर

लॉकडाउन : देश में पहली बार 43 दिन रुकीं रहेंगीं 12000 यात्री ट्रेनें, संक्रमण को रोकने के लिए ऐसा करना जरूरी, रेलवे ने कहा- अगले नोटिस तक एडवांस रिजर्वेशन नहीं होंगे

आज यानि 14 अप्रैल को 21 दिन का देशव्यापी लॉकडाउन खत्म होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान कर दिया। इसी के साथ यह साफ हो गया कि देश में आवाजाही के सबसे बड़े साधन यानी यात्री ट्रेनें और हवाई उड़ान भी इस अवधि तक बंद रहेंगें। इसके अलावा लोकल और इंटर स्टेट ट्रांसपोर्ट के लिए इस्तेमाल होने वाली बसें भी बंद रहेंगी। प्रधानमंत्री के संबोधन के कुछ देर बाद ही रेलवे ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान देशभर में यात्री ट्रेनें नहीं चलेंगी। मालगाड़ियां चलती रहेंगी। वहीं, नागरिक उड्डयन मंत्रालय के मुताबिक, 3 मई तक घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें स्थगित रहेंगी।

देशभर में यात्री ट्रेनें जनता कर्फ्यू यानी 22 मार्च से ही बंद हैं। देश में ऐसा पहली बार होने जा रहा है कि ट्रेनें लगातार 43 दिन बंद रहेंगी। रेलवे ने लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाने की प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद बयान जारी कर कहा कि प्रीमियम ट्रेनें, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें, पैसेंजर ट्रेनें, उपनगरीय ट्रेनें, कोलकाता मेट्रो और कोंकण रेलवे की सभी ट्रेनें 3 मई को रात 12 बजे बंद रहेंगी। हालांकि, इस दौरान मालगाड़ियां चलती रहेंगी।

कुछ सवाल जिनके जवाब जानना जरूरी

क्या रेलवे स्टेशनों पर टिकट की बुकिंग हाेगी?
नहीं। रेलवे के मुताबिक आरक्षित या गैर-आरक्षित यात्रा करने के लिए सभी रेलवे स्टेशनों पर या स्टेशनों के बाहर टिकटों की बुकिंग भी 3 मई की आधी रात तक बंद रहेगी।

Advertisement. Scroll to continue reading.

क्या रिफंड मिलेगा?
अगर किसी ने 3 मई तक की यात्रा के लिए टिकट बुक करा रखा है तो रेलवे बोर्ड ने कहा है कि इसका फुल रिफंड लोगों को दिया जाएगा। लॉकडाउन के दौरान कैंसल ट्रेनों के टिकटों पर 21 जून तक फुल रिफंड क्लेम कर सकेंगे।

क्या आगे की यात्रा के लिए बुकिंग शुरू होगी?
रेलवे बोर्ड का कहना है कि अगले नोटिस तक एडवांस रिजर्वेशन नहीं होंगे।

लॉकडाउन के साथ ट्रेनें रोकना क्यों जरूरी?
रेलवे 12 हजार यात्री ट्रेनें चलाता है। इनमें 9 हजार पैसेंजर ट्रेनें और 3 हजार मेल एक्सप्रेस हैं। इनमें रोजाना 2.3 करोड़ लोग सफर करते हैं। ट्रेनें चलने पर यात्रियों पर कोरोना के संक्रमण का खतरा रहेगा। इसलिए ट्रेनें रोकना जरूरी है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

जब लॉकडाउन खत्म हो जाएगा, तब क्या सभी सीटों पर रिजर्वेशन मिलेगा?
सरकार कुछ चुनिंदा रूटाें पर ट्रेनें शुरू कर सकती है। माना जा रहा है कि 30 अप्रैल के बाद भी एकदम से पूरी कैपेसिटी के साथ ट्रेनें शुरू करना मुमकिन नहीं होगा। इसलिए धीरे-धीरे इन्हें शुरू करने की तैयारी है।

रेलवे लॉकडाउन खुलने के बाद क्या तैयारी कर रहा है?

  • हो सकता है कि स्टेशन पर ट्रेन आने से चार घंटे पहले पहुंचना जरूरी किया जाए।
  • ट्रेनाें में जनरल बाेगी नहीं हाेगी। हो सकता है कि एसी डिब्बे भी न रखे जाएं। सिर्फ रिजर्वेशन होने पर ही यात्रा हो सकेगी।
  • साेशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए आधी सीटों पर ही रिजर्वेशन दिया जा सकता है।
  • काेराेना संक्रमण के हाॅट स्पाॅट पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी।
  • भीड़-भाड़ से बचने के लिए स्टेशनाें पर स्टाॅपेज का टाइम भी दोगुना किया जा सकता है।
  • हर स्टेशन पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा सकती है।
  • स्टेशन पर सिर्फ वे पहुंच सकेंगे जिनके पास रिजर्वेशन वाली टिकट है।
  • भीड़ रोकने के लिए हो सकता है कि प्लेटफाॅर्म टिकट न बेचे जाएं।
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Advertisement
Advertisement

और खबरें पढ़ें

हेल्थ

कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। इस बीच काफी लोग ऐसे हैं जिन्होंने कोरोना संक्रमण से जंग जीत...

उत्तरप्रदेश

कोरोना महामारी में मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वहीं, पिछले दिनों कई मामले सामने आए थे जहां अंतिम संस्कार के...

उत्तरप्रदेश

कोराना से पूरे देश में बुरे हालात है। उत्तर प्रदेश में भी कोरोना अभी तक सैकड़ों लोगों की जान ले चुका है। लोगों का...

Advertisement