Connect with us

Hi, what are you looking for?

टेक्नोलॉजी

Mobikwik चलाते हैं तो हो जाएं सावधान, शोधकर्ता का दावा – हुआ इतिहास का सबसे बड़ा KYC डेटा लीक

सिक्योरिटी रिसर्चर राजशेखर राजहरिया ने दावा किया है कि डिजिटल वॉलेट और पेमेंट्स कंपनी MobiKwik के 35 लाख यूज़र्स का एक बड़ा डेटा डार्क वेब पर बिक्री के लिए उपलब्ध है। फ्रेंच रिसर्चर रॉबर्ट बाप्टिस्ट ने इसे लेकर कहा कि संभवतः यह इतिहास में सबसे बड़ा केवाईसी डेटा लीक है। हालांकि, Mobikwik ने डेटा लीक होने से इनकार किया है।

इस संबंध में पहले राजशेखर राजघरिया और फिर सोमवार को फ्रांसीसी शोधकर्ता इलियट एल्डरसन ने ट्वीट कर बताया कि डार्क वेब पर उपयोगकर्ताओं के फोन नंबर, ईमेल, हैशेड पासवर्ड, पते, बैंक खाते और कार्ड विवरण सहित 8.2TB डेटा शामिल हैं। हालांकि मोबिक्विक ने इस तरह के किसी भी उल्लंघन से इनकार किया है।

कंपनी ने आईएएनएस के साथ साझा बयान में कहा, “कुछ मीडिया-कथित तथाकथित शोधकर्ताओं ने कंपनी को बदनाम करने वाली मनगढ़ंत फाइलों को पेश करने का प्रयास किया है।” हमारे उपयोगकर्ता और कंपनी का डेटा पूरी तरह से सुरक्षित है।

राजाहरिया ने पहले दावा किया था कि “11 करोड़ भारतीय कार्डधारक के कार्ड का डेटा जिसमें व्यक्तिगत विवरण और केवाईसी सॉफ्ट कॉपी (पैन, आधार आदि) शामिल हैं, कथित तौर पर भारत में कंपनी के सर्वर से लीक हुए हैं”। शोधकर्ताओं के अनुसार, पूरा डेटाबेस डार्क वेब पर 1.5 बिटकॉइन (लगभग $ 84,000) के लिए उपलब्ध है।

Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Advertisement
Advertisement

और खबरें पढ़ें

Advertisement