Connect with us

Hi, what are you looking for?

टेक्नोलॉजी

दुनिया में अब तक एक लाख 18000 मौत: न्यूयॉर्क में सबसे ज्यादा 10 हजार ने दम तोड़ा, यहां संक्रमितों की संख्या 195000 से ज्यादा

दुनियाभर में 19 लाख 17 हजार 209 इस वायरस से संक्रमित हैं। एक लाख 19 हजार 090 की मौत हो चुकी है। चार लाख 41 हजार 232 स्वस्थ भी हुए हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प खुद की बनाई कोरोना टास्क फोर्स के मेंबर और देेश के सबसे मशहूर डॉक्टर एंथोनी फौसी से नाराज हो गए हैं। वहीं, बांग्लादेश में कपड़ा फैक्ट्रियां बंद होने से हजारों मजदूर सड़कों पर उतर आए हैं। स्पेन में करीब तीन लाख कर्मचारी काम पर लौट आए हैं।


अमेरिका के व्योमिंग राज्य में सोमवार को कोरोनावायरस से पहली मौत हुई। गवर्नर मार्क गॉर्डन ने इसकी पुष्टि की। यह देश का 50वां और आखिरी राज्य है, जहां कोरोना से मौत हुई है। देश में अब तक इस वायरस से करीब 5 लाख 77 हजार लोग संक्रमित हैं जबकि मरने वालों का आंकड़ा 23 हजार से ज्यादा है। अमेरिका में इस वायरस का ऐपिसेंटर न्यूयॉर्क है। अकेले यहां संक्रमितों की संख्या 1 लाख 95 हजार से ज्यादा है, जबकि मरने वालों का आंकड़ा 10 हजार से ज्यादा है। जो ईरान (4585), जर्मनी(3043) और चीन(3341) से ज्यादा है। न्यूयॉर्क के बाद न्यूजर्सी में 2,443, मिशीगन में 1,487, लुसियाना में 884, मैसाच्युसेट्स में 756 लोगों ने अब तक दम तोड़ा है।

इधर, दुनियाभर में 19 लाख 17 हजार 209 इस वायरस से संक्रमित हैं। एक लाख 19 हजार 090 की मौत हो चुकी है। चार लाख 41 हजार 232 स्वस्थ भी हुए हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प खुद की बनाई कोरोना टास्क फोर्स के मेंबर और देेश के सबसे मशहूर डॉक्टर एंथोनी फौसी से नाराज हो गए हैं। वहीं, बांग्लादेश में कपड़ा फैक्ट्रियां बंद होने से हजारों मजदूर सड़कों पर उतर आए हैं। स्पेन में करीब तीन लाख कर्मचारी काम पर लौट आए हैं।

कोरोनावायरस : सबसे ज्यादा प्रभावित 10 देश

Advertisement. Scroll to continue reading.
देशकितने संक्रमितकितनी मौतेंकितने ठीक हुए
अमेरिका5 लाख 83 हजार 41123 हजार 46234 हजार 664
स्पेन1 लाख 69 हजार 62817 हजार 62864 हजार 727
इटली 1 लाख 59 हजार 51620 हजार 465 35 हजार 435
फ्रांस1 लाख 36 हजार 779 14 हजार 96727 हजार 718
जर्मनी1 लाख 28 हजार 2083 हजार 043 64 हजार 300
ब्रिटेन88 हजार 62111 हजार 329उपलब्ध नहीं
चीन82 हजार 1603 हजार 34177 हजार 663
ईरान73 हजार 3034 हजार 58545 हजार 983
तुर्की 61हजार 049    1 हजार 2963 हजार 957
बेल्जियम30 हजार 5893 हजार 9036 हजार 707

स्रोत: https://www.worldometers.info/coronavirus/

कोरोना अपडेट्स

  • कोरोनावायरस का असर न्यूयॉर्क पुलिस डिपार्टमेंट पर भी पड़ा है। करीब 17 फीसदी से ज्यादा पुलिसकर्मी बीमार पड़ गए हैं। हालांकि, अच्छी बात यह है कि पिछले तीन दिन में पुलिसकर्मियों के बीमार पड़ने के मामलों में कमी आई है। अब तक कोरोना से संक्रमित 936 पुलिसकर्मी ठीक होकर अपने काम पर लौट चुके हैं। 
  • कैंसास में बीते तीन हफ्तों में करीब 1 लाख 30 हजार लोगों ने बेरोजगारी भत्ते के लिए आवेदन किया है। गवर्नर लौरा केली ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पिछले हफ्ते 50 हजार लोगों ने क्लेम के लिए आवेदन किया था। इससे पहले 55 हजार लोग भत्ते के लिए अप्लाई कर चुके हैं।  
  • फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने सोमवार को कहा कि देश में कोरोनावायरस संक्रमण का असर कम होता दिख रहा है। हालांकि, यहां 11 मई तक लॉकडाउन लागू रहेगा। वहीं, फ्रांस गैर यूरोपीय देशों के साथ अपनी सीमाएं अगले आदेश तक बंद रखेगा। 

अमेरिका : ट्रम्प कोरोना टास्क फोर्स के मेंबर से नाराज
डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोनावायरस से निपटने के लिए टास्क फोर्स बनाई थी। इसकी कमान डॉक्टर एंथोनी फौसी के पास है। वो हर प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रम्प के साथ नजर भी आ रहे हैं। फौसी ने कुछ टीवी चैनलों को दिए इंटरव्यू में साफ तौर पर कहा था कि अगर लॉकडाउन (अमेरिका में इसे शटडाउन कहा जा रहा है) वक्त पर किया जाता तो महामारी को ज्यादा बेहतर तरीके से काबू किया जा सकता था। ट्रम्प फौसी की इसी बात से खफा हो गए हैं। सोमवार को उन्होंने डॉक्टर फौसी का नाम लिए बिना एक ट्वीट किया। कहा, “ये फर्जी खबर है। क्योंकि, सच्चाई का रिकॉर्ड मौजूद है। मैंने चीन से जुड़े मामलों पर तब रोक लगा दी थी, जब लोग इस बारे में बात भी नहीं कर रहे थे।” हालांकि, कुछ गलती फौसी की भी है। उन्होंने मार्च के मध्य में कहा था कि अमेरिका पर कोरोना का ज्यादा असर नहीं पड़ेगा क्योंकि यहां तैयारियां पूरी हैं। इस बीच फौसी को निकाले जाने की खबर पर व्हाइट हाउस ने सफाई दी है। उसकी तरफ से कहा गया है कि डॉक्टर फौसी को निकालने की बात हास्यास्पद है।

बांग्लादेश : भुखमरी की चिंता
ढाका की सड़कों पर सोमवार को हजारों कामगार उतरे और उन्होंने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। ब्रिटिश अखबार ‘द गार्डियन’ के मुताबिक, चीन के बाद बांग्लादेश रेडिमेड कपड़ों का सबसे बड़ा निर्यातक है। बांग्लादेश हर साल 40 अरब डॉलर का एक्सपोर्ट करता है। इसमें सबसे बड़ा हिस्सा गारमेंट सेक्टर का होता है। कोरोनावायरस के चलते एचएंडएम, वॉलमार्ट और टेस्को जैसे रिटेलर्स ने ऑर्डर कैंसिल कर दिए। इस वजह से पेमेंट भी अटक गया। अब मजदूरों के सामने भुखमरी का संकट पैदा हो गया है। कुछ मजदूरों ने कहा- हम कोरोनावायरस से शायद बच जाएं लेकिन भूख से जरूर मर जाएंगे।

Advertisement. Scroll to continue reading.
सोमवार को बांग्लादेश की राजधानी ढाका में सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते गारमेंट वर्कर। महामारी के चलते इनको सैलरी नहीं मिल सकी है। कंपनियों ने ऑर्डर कैंसिल कर दिए। कुछ मजदूरों ने कहा- हम कोरोनावायरस से शायद बच जाएं लेकिन भुखमरी से जरूर मर जाएंगे।  

अमेरिका : टेलिफोन पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को बताया कि वो कुछ केस की सुनवाई टेलिफोन पर करेगा। इनमें दो केस राष्ट्रपति ट्रम्प से जुड़े हैं। इसे लेकर ट्रम्प ने कहा है कि उनके कुछ आर्थिक दस्तावेज सार्वजनिक तौर पर जारी न किए जाएं। सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी बयान में कहा गया, “पब्लिक हेल्थ गाइडलाइंस को देखते हुए हम कुछ मामलों की सुनवाई लाइव ऑडियो फीड के जरिए करेंगे। इसकी जानकारी मीडिया को भी दी जाएगी।” इन मामलों की सुनवाई 31 मार्च को होनी थी। लेकिन, कोरोनावायरस को देखते हुए इसे टाल दिया गया था।

दक्षिण कोरिया : छह लाख टेस्ट किट की पहली खेप अमेरिका भेजी
दक्षिण कोरिया मंगलवार से अमेरिका को कोविड-19 टेस्ट किट देना शुरू करेगा। साऊथ कोरिया सरकार ने सोमवार रात एक बयान में यह जानकारी दी। विदेश मंत्री कांग क्यूंग ने फ्रांस 24 को दिए इंटरव्यू में कहा, “हम इस मुश्किल वक्त में अमेरिका के साथ हैं। हम उन्हें 6 लाख कोरोना टेस्ट किट देने जा रहे हैं।” फिलहाल यह साफ नहीं है कि मंगलवार को जो खेप अमेरिका पहुंचेगी, उसमें कितनी टेस्ट किट हैं। साऊथ कोरिया की टेस्ट किट्स को अमेरिकी सरकार मंजूरी दे चुकी है।

दक्षिण कोरिया के इन्चियोन इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बाहर टेस्ट किट्स के साथ मौजूद हेल्थ वर्कर। यहां की सरकार ने अमेरिका को 6 लाख कोविड-19 टेस्ट किट्स देने का फैसला किया है। इसकी पहली खेल 13 अप्रैल (मंगलवार) को अमेरिका पहुंचेगी। हालांकि, यह साफ नहीं है कि पहली खेप में कितनी किट्स होंगी। 

न्यूयॉर्क : कम हो रहे मरीज

गवर्नर एंड्रू कूमो ने सोमवार शाम कहा कि न्यूयॉर्क के अस्पतालों में रोज भर्ती होने वाले मरीजों का आंकड़ा कम हो रहा है। कूमो ने कहा, “मैं आपको एक अच्छी खबर देना चाहता हूं। संक्रमण से भर्ती होने वाली मरीजों की तादाद स्थिर या यूं कहें कम हुई है।” हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि निकट भविष्य में क्या होगा, इस पर नजर रखनी होगी। क्योंकि, शहर ने इस तरह का माहौल पहले नहीं देखा। महामारी पर गवर्नर ने कहा, “ऐसा लगता है जैसे लपटें सूखी खास और तेज हवाओं का सहारा लेकर हमारी तरफ तेजी से लपक रही हैं।”सोमवार तक अकेले न्यूयॉर्क राज्य में 10 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी थी। रविवार को कुल 671 लोगों ने दम तोड़ा।

Advertisement. Scroll to continue reading.
न्यूयॉर्क सिटी के ब्रुकलिन में रविवार रात एक मरीज को स्पेशल वॉर्ड में शिफ्ट करता मेडिकल स्टाफ। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, न्यूयॉर्क में संक्रमितों की संख्या ज्यादा हैं। इनके लिए कई अस्पतालों में बिस्तर, वेंटिलेटर्स और दूसरे सुरक्षा उपकरण कम पड़ गए हैं। 

अमेरिका : सर्जन जनरल की उम्मीद
सर्जन जनरल डॉक्टर जेरोम एडम्स ने सोमवार शाम हालात बेहतर होने की उम्मीद जाहिर की। कहा, “कोरोनावायरस के हॉट स्पॉट्स जैसे न्यूयॉर्क, न्यूजर्सी, डेट्रॉयट और न्यू ओर्लियंस में मामले कम हुए हैं। त्रासदी के इस दौर में एक उम्मीद की किरण भी है। सोशल डिस्टेंसिंग जैसे उपाय अब कारगर साबित हो रहे हैं। हमें अंधेरी सुरंग के आखिरी छोर पर उजाला नजर आने लगा है। इस भावना को कायम रखिए।”

मैड्रिड में 3 लाख कर्मचारी काम पर लौटे

मैड्रिड क्षेत्र में लगभग तीन लाख कर्मचारी सोमवार को काम पर लौट आए। स्थानीय प्रशासन ने सोमवार को यह जानकारी दी। स्पेन में रोजाना नए संक्रमित मिल रहे हैं। इसके बावजूद सरकार ने लॉकडाउन नियमों में राहत दी है। देश के सबसे बड़े कर्मचारी संगठन जीटीयू ने सरकार के फैसले का विरोध किया। नौ लाख 40 हजार सदस्यों वाले इस संगठन के मुताबिक, कर्मचारियों को तमाम सुरक्षा साधन और पीपीई किट उपलब्ध कराना मैनेजमेंट की जिम्मेदारी होगी। सरकार ने उन कर्मचारियों को काम की मंजूरी दी है जो वर्क फ्रॉम होम नहीं कर सकते।

स्पेन में सोमवार को लेगेन्स शहर के हेल्थ वर्कर ऐस्टाबेन की संक्रमण से मौत हो गई। वो मरीजों की देखभाल में लगे थे और इसी दौरान संक्रमित हुए। जब उनका पार्थिव शरीर अंतिम क्रिया के लिए ले जाया गया तब सहयोगियों की आंखें नम थीं। इन लोगों ने एक-दूसरे को संभाला।  

ब्रिटेन : निगेटिव आई थी जॉनसन की रिपोर्ट
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को रविवार शाम अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी। वो अब घर पर आराम कर रहे हैं। डॉक्टरों ने उन्हें कुछ दिन कामकाज से दूर रहने को कहा है। जानकारी के मुताबिक, रविवार को जॉनसन का एक और कोरोना टेस्ट किया गया था। इसकी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें हॉस्पिटल से डिस्चार्ज किया गया।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेष दूत डेविड नाबरो ने रविवार को न्यूज चैनल एनबीसी के ‘मीट द प्रेस’ कार्यक्रम में चेतावनी दी कि कोरोनोवायरस इन्फ्लूएंजा जैसी मौसमी बीमारी नहीं है। इसका जब तक कोई वैक्सीन तैयार नहीं होता है, तब तक प्रकोप जारी रहेगा। डेविड ने कहा कि मुझे लगता है कि यह एक ऐसा वायरस है जो मानव जाति का लंबे समय तक पीछा करता रहेगा। केवल वैक्सीन ही हमें इससे बचा सकता है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

अमेरिका: 24 घंटे में 1,528 लोगों की मौत

सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका और यहां के न्यूयॉर्क स्टेट में एक दिन में होने वाली मौतों में कमी आई है। देश में 24 घंटे में 1,528 की जान गई है। इनमें न्यूयॉर्क में केवल 758 की मौत हुई। एक दिन पहले देश में 1,920 और राज्य में 783 लोगों ने दम तोड़ा था। अब तक अमेरिका में 22 हजार 115 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, पांच लाख 60 हजार 425 लोस संक्रमित हैं।

  • न्यूयॉर्क के रियल स्टेट बिजनेसमैन और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दोस्त स्टेनली चेरा की कोरोना से मौत हो गई। वे 70 साल के थे।
  • फेडरल इलेक्शन कमीशन के रिकॉर्ड के अनुसार, 2016 से 2019 तक स्टेनली ने ट्रम्प विक्ट्री ऑर्गेनाइजेशन को करीब चार करोड़ रु. (4 लाख 2 हजार 800 डॉलर) दिए थे।
  • न्यूयॉर्क में अब तक नौ हजार 385 लोगों की मौत हुई, जबकि एक लाख 89 हजार 415 संक्रमित हैं
  • जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक, महामारी का केंद्र बने न्यूयॉर्क सिटी में संक्रमितों की संख्या एक लाख से ज्यादा हो गई है, जबकि छह हजार 898 लोगों की जान जा चुकी है।
  • न्यूयॉर्क के बाद सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूजर्सी है, यहां अब तक दो हजार 350 लोगों की मौत हो चुकी है

इटली: मृतकों की संख्या 20 हजार के पार

इटली में कोरोना से मरने वालों की संख्या 20 हजार के पार पहुंच गई है। बीते 24 घंटे में यहां 566 लोगों की जान गई। सोमवार को इटेलियन सिविल प्रोटेक्शन एजेंसी ने यह जानकारी दी। देश में संक्रमितों की संख्या 1 लाख 3 हजार से ज्यादा है। आईसीयू में भर्ती मरीजों की संख्या भी कम हुई है। फिलहाल 3 हजार 260 लोग आईसीयू में हैं। इटली में रविवार को 431 लोगों की मौत हुई।19 मार्च के बाद मौतों का यह सबसे कम आंकड़ा है। शनिवार को यहां 619 की जान गई थी। यहां तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ाया जा सकता है।

Advertisement. Scroll to continue reading.
इटली: मिलान शहर का ड्यूमो स्क्वायर। यहां 9 मार्च को लगा लॉकडाउन 13 अप्रैल को खत्म हो रहा है। इसे अभी और आगे बढ़ाया जा सकता है।

फ्रांस: कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 15 हजार पहुंचा

फ्रांस के परमाणु शक्ति संपन्न एयरक्राफ्ट कैरियर चार्ल्स-डे-गॉल के 50 नौसैनिकों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद जहाज पर तैनात 1900 सैनिकों को आइसोलेट किया जाएगा। इन्हें निकालने के लिए ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है।

फ्रांस: लॉकडाउन के बीच पेरिस में कैनाल डी लोरक के तट पर लोग मौसम का आनंद ले रहे। यहां अब तक 14 हजार लोगों की मौत हो चुकी है।

रूस: एक दिन में 2,558 मामले
सीएनएन के मुताबिक, रूस में 24 घंटे में कोरोनावायरस के दो हजार 558 केस सामने आए हैं। यह अब तक एक दिन में सबसे ज्यादा मामला है। एक दिन पहले एक दिन में 2,186 केस की पुष्टि हुई थी। देश में अब तक 18 हजार 328 मामले मिल चुके हैं, जबकि 148 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना मरीजों के अस्पताल जाने के दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन सुरक्षा के लिए सूट पहने हुए हैं।

चीन: 108 नए मामले
चीन के स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को बताया कि देश में कोरोना के 108 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें 98 मामले दूसरे देशों से आए हुए लोगों के हैं। 10 स्थानीय लोग भी इसकी चपेट में आए हैं। इसमें हेइलोंगजियां प्रांत में सात और गुआंडोंग प्रांत में तीन मामले शामिल हैं। हुबेई प्रांत में दो और लोगों की मौत हुई है, जबकि छह नए केस दर्ज किए गए। यहां अब तक 82 हजार 160 लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 3,341 की मौत हो चुकी है।

चीन: बीजिंग के फाइनेंशियल स्ट्रीट पर भीड़। यहां ज्यादातर कंपनियों में कामकाज शुरू हो चुका है। देश में 77 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं।

सिंगापुर: 233 नए मामलों में 59 भारतीय

सिंगापुर में रविवार को 233 संक्रमित मिले। इनमें 59 भारतीय नागरिक हैं। नए मामलों में 51 सामुदायिक संक्रमण से जुड़े हैं। सिंगापुर में अब तक दो हजार 532 लोग संक्रमित हैं, जबकि आठ की मौत हो चुकी है।

इजराइल: देश के पूर्व प्रमुख रब्बी डोरेन की मौत
इजराइल के पूर्व प्रमुख रब्बी एलियाहू बक्शी डोरेन की कोरोनावायरस से मौत हो गई। वे 79 साल के थे। वे कुछ दिनों पहले ही भर्ती हुए थे। उन्हें कई और बीमारियां भी थीं। उन्होंने 1993 से 2003 के बीच इजराइल के प्रमुख रब्बी के रूप में कार्य किया था। यहां अब तक 11 हजार 145 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 103 की मौत हो चुकी है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

तुर्की: राष्ट्रपति ने गृह मंत्री का इस्तीफा लेने से इनकार किया
राष्ट्रपति रेजेप तैयप अर्दोआन ने गृह मंत्री सुलेमान सोयलू का इस्तीफा लेने से इनकार कर दिया। कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए शॉर्ट नोटिस पर उन्होंने देश के 31 प्रांतों में 48 घंटे का कर्फ्यू लगा दिया। इसके बाद हजारों की संख्या में लोग दुकानों में पहुंचने लगे। लोगों ने न सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया और न ही मास्क लगाए। इसकी वजह से गृह मंत्री की चारों ओर आलोचना होने लगी। इस वजह से रविवार रात उन्होंने राष्ट्रपति को इस्तीफा सौंप दिया। लेकिन राष्ट्रपति ने इस्तीफा स्वीकार नहीं किया, वे आगे भी सरकार के लिए कार्य करते रहेंगे।

कोरोना को फैलने से रोकने के लिए 10 अप्रैल को तुर्की के 31 प्रांतों में 48 घंटे का कर्फ्यू लगाया गया। इसके बाद अंकारा में अतातुर्क प्रतिमा के पास कबूतरों का झुंड नजर आया।

जापान: 530 नए मामले सामने आए
जापान के स्वास्थ्य मंत्री ने सोमवार को बताया कि देश में रविवार को कोरोनावायरस के 530 नए मामले सामने आए। डायमंड प्रिंसेस क्रूज के 712 संक्रमितों समेत सोमवार तक पूरे देश में लगभग 7,967 केस की पुष्टि हो चुकी है। यहां अब तक 123 लोगों की मौत हो चुकी है। रविवार को जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने ट्विटर पर लिखा- मैं अपने दोस्तों से नहीं मिल सकता। पार्टी भी नहीं कर सकता। ऐसे प्रतिबंधों से लोग सुरक्षित हैं। कुछ दिनों पहले जापान के सात प्रांतों में इमरजेंसी लगा दी गई थी।

Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Advertisement
Advertisement

और खबरें पढ़ें

हेल्थ

कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। इस बीच काफी लोग ऐसे हैं जिन्होंने कोरोना संक्रमण से जंग जीत...

उत्तरप्रदेश

कोरोना महामारी में मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वहीं, पिछले दिनों कई मामले सामने आए थे जहां अंतिम संस्कार के...

उत्तरप्रदेश

कोराना से पूरे देश में बुरे हालात है। उत्तर प्रदेश में भी कोरोना अभी तक सैकड़ों लोगों की जान ले चुका है। लोगों का...

Advertisement