मैग्नेट फोरेंसिक्स ने भारत में बाल शोषण और धोखाधड़ी के मामलों में ट्रुथ लैब्स को न्याय देने में मदद की

 | 
Business Wire India
सौ से अधिक देशों में 4,000 से अधिक उद्यमों और सार्वजनिक सुरक्षा संगठनों द्वारा उपयोग किए जाने वाले डिजिटल जांच समाधानों के विकासकर्ता, मैग्नेट फोरेंसिक्स (टीएसएक्स:एमएजीटी) (Magnet Forensics), ने आज घोषणा की कि ट्रुथ लैब्स (Truth Labs), भारत की पहली स्वतंत्र फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला मैग्नेट एक्सीओम (Magnet AXIOM) को आगे बढा रही है ताकि मानव तस्करी, बच्चों के खिलाफ अपराध, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के खिलाफ अत्याचार और धोखाधड़ी में शामिल अपराधी के खिलाफ न्याय के लिए काम किया जा सके।
 
ट्रुथ लैब्स के डिजिटल फोरेंसिक्स डिविजन की निदेशक अनुपमा किलारू ने कहा, "निर्दोष पीड़ितों का शोषण करने वाले अपराधियों को त्वरित न्याय दिलाने के लिए मैग्नेट फोरेंसिक्स हमारी खोज में एक जबरदस्त भागीदार रहा है। मैग्नेट एक्सीओम कंप्यूटर, मोबाइल और क्लाउड अधिग्रहण में शामिल एनालिटिक्स की चौड़ाई और गहराई के कारण हमारे खोजी टूल किट के लिए एक अमूल्य एडिशन रहा है। इसके विश्लेषणात्मक उपकरण हमें महत्वपूर्ण सबूतों को तेजी से ढूंढ़ने और अपराध के दौरान हुई घटनाओं का पता लगाने में मदद करते हैं। इस तरह, हमारे मामले अदालत में या अभियोजन प्राधिकरण के सामने पेश किये जाते हैं।”

अनुभवी फोरेंसिक वैज्ञानिकों को मिलाकर बनी ट्रुथ लैब्स एक गैर-लाभकारी फोरेंसिक प्रयोगशाला है जो पुलिस, अदालतों, उद्यमों और व्यक्तियों को ऐसी सेवाएं प्रदान करती है जो अन्यथा उन तक नहीं पहुंच सकती। इसमें शामिल लोग जाने-माने फोरेंसिक वैज्ञानिक रहे हैं जो पुलिस और न्यायपालिका से रिटायर हुए हैं। इसकी स्थापना आंध्र प्रदेश फोरेंसिक लैब्स के पूर्व निदेशक और भारत में विभिन्न राज्य सरकारों के वर्तमान सलाहकार डॉ. गांधी पीसी काज़ा ने की है। यह संस्थान 15 वर्षों से काम कर रहा है। 2019 के बाद से, ट्रुथ लैब्स ने 300 से अधिक मामलों में, मोबाइल फोन, कंप्यूटर, आईओटी (IoT) उपकरणों और क्लाउड से डिजिटल साक्ष्य को पुनर्प्राप्त करने, विश्लेषण करने और रिपोर्ट करने के लिए एक डिजिटल फोरेंसिक प्लेटफॉर्म मैग्नेट एक्सीओम का उपयोग किया है।

मैग्नेट फोरेंसिक्स के संस्थापक और मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी जद सलीबा ने कहा, "डिजिटल सबूतों के बोझ तले दबी पुलिस एजेंसियों को उनकी डिजिटल जांच पूरी करने, अपराधियों को समय पर न्याय दिलाने और निर्दोषों को दोषमुक्त करने में मदद करके ट्रुथ लैब्स भारत की न्याय प्रणाली में एक मौलिक भूमिका निभाता है। मैग्नेट एक्सीओम ट्रुथ लैब्स जैसे डिजिटल जांचकर्ताओं की मदद कर रहा है, जो हटाए गए और छिपे हुए डेटा सहित महत्वपूर्ण डिजिटल सबूतों को पुनर्प्राप्त और विश्लेषण करके अपने मामलों में दैनिक ब्रेक थ्रू बनाते हैं, और इसे जल्दी से जांच अधिकारियों के हाथों में लाते हैं।"

मैग्नेट एक्सीओम ने डिजिटल जांच में फर्क करने के लिए ट्रुथ लैब्स की क्षमता को तुरंत बढ़ाया। 2019 में, कोलकाता पुलिस ने धोखाधड़ी की जांच को ट्रुथ लैब्स को आउटसोर्स किया। संदिग्धों पर व्यक्तिगत जानकारी चुराने के लिए अमेरिकी नागरिकों को फोन कॉल के दौरान माइक्रोसॉफ्ट तकनीकी सहायता कर्मचारियों का प्रतिरूपण करने का आरोप लगाया गया था। ट्रुथ लैब्स ने कई आईफ़ोन के साथ-साथ संदिग्धों से संबंधित मैक और विंडोज लैपटॉप की जांच के लिए मैग्नेट एक्सीओम का इस्तेमाल किया। डिजिटल जांचकर्ताओं ने निर्देश दस्तावेज बरामद किए, जिसमें बताया गया था कि पीड़ितों के साथ कैसे बात करें, कुछ स्थितियों में कैसे प्रतिक्रिया दें और व्यक्तिगत जानकारी चुराने के लिए पीड़ितों के कंप्यूटर से दूर से कैसे कनेक्ट करें। उन्होंने पीड़ितों से संबंधित व्यक्तिगत डेटा, जैसे बैंकिंग जानकारी और क्रेडिट कार्ड नंबर से भरी स्प्रैडशीट भी बरामद की।

हाल ही के एक अन्य मामले में, ट्रुथ लैब्स ने कर्नाटक राज्य पुलिस के लिए कथित बाल शोषण की जांच के लिए मैग्नेट एक्सीओम का इस्तेमाल किया। बच्ची और उसके माता-पिता ने एक किराएदार पर अपने घर में दुर्व्यवहार का आरोप लगाते हुए पुलिस रिपोर्ट दर्ज कराई। जांच के एक महत्वपूर्ण हिस्से में, संदिग्ध ने पुलिस को बताया कि उसने बच्चे के साथ वस्तुतः कभी संवाद नहीं किया। हालाँकि, ट्रुथ लैब्स, हटाए गए डेटा को पुनर्प्राप्त करने के लिए मैग्नेट एक्सीओम का उपयोग करने में सक्षम था, यह दर्शाता है कि संदिग्ध ने व्हाट्सएप के माध्यम से बच्चे के साथ संवाद किया था। जानकारी मामले के लिए महत्वपूर्ण थी क्योंकि इससे साबित होता है कि संदिग्ध झूठ बोल रहा था और उसने अपने ट्रैक को कवर करने का प्रयास किया था।

मैग्नेट एक्सीओम के बारे में अधिक जानकारी के लिए, कृपया मैग्नेट फोरेंसिक्स की वेबसाइट देखें: magnetforensics.com

मैग्नेट फोरेंसिक्स के बारे में

2010 में स्थापित, मैग्नेट फोरेंसिक्स डिजिटल जांच सॉफ़्टवेयर का एक डेवलपर है जो कंप्यूटर, मोबाइल डिवाइस, आईओटी डिवाइस और क्लाउड सेवाओं सहित डिजिटल स्रोतों से साक्ष्य प्राप्त करता है, विश्लेषण करता है, रिपोर्ट करता है और प्रबंधित करता है। मैग्नेट फोरेंसिक्स सॉफ्टवेयर का उपयोग 100 से अधिक देशों में 4,000 से अधिक सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के ग्राहकों द्वारा किया जाता है और जांचकर्ताओं को अपराध से लड़ने, संपत्ति की रक्षा करने और राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा करने में मदद करता है।

स्रोत रूपांतर Businesswire.com पर देखें: https://www.businesswire.com/news/home/20220920006059/en/
 
संपर्क :
नील देसाई
दूरभाष: 226-243-6337
PR@magnetforensics.com
 
घोषणा (अस्वीकरण): इस घोषणा की मूलस्रोत भाषा का यह आधिकारिक, अधिकृत रूपांतर है। अनुवाद सिर्फ सुविधा के लिए मुहैया कराए जाते हैं और उनका स्रोत भाषा के आलेख से संदर्भ लिया जा सकता है और यह आलेख का एकमात्र रूप है जिसका कानूनी प्रभाव हो सकता है।

  मैग्नेट फोरेंसिक्स ने भारत में बाल शोषण और धोखाधड़ी के मामलों में ट्रुथ लैब्स को न्याय देने में मदद की

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।