APP में पढ़ें
Whatsapp ग्रुप से जुड़ें
Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तराखंड

उत्तराखंड : चारधाम राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना से घट जाएगी यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ की दूरी

चारधाम राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना (Chardham National Highway Project) अगले साल पूरे होने की संभावना है। जानकारी हो कि यह केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी परियोजनाओं में से एक है। जिस पर तेजी से कार्य कराए जाने का दावा किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार चारधाम राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना पूरी होने पर यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ व बद्रीनाथ धाम की दूरी लगभग 65 किमी. तक कम हो जाएगी। अभी चार धाम की दूरी 890 किमी. है। परंतु राष्ट्रीय राजमार्ग पूरा होने यह दूरी 825 किमी. की दूरी कम हो जाएगी। दूरी कम होने से कई घंटे का ट्रेवल टाइम भी कम हो जाएगा।

12,000 करोड़ रुपये है चारधाम परियोजना का कुल बजट

चारधाम राष्ट्रीय राजमार्ग से लोगों को काफी फायदा होगा। सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक चारधाम परियोजना का कुल बजट 12 हजार करोड़ रुपये है। इसके स्वीकृत 40 पैकेज के तहत 637 किलोमीटर पर निर्माण कार्य चल रहा है। इसमें से 425 किलोमीटर दो लेन राजमार्ग का निर्माण पूरा कर लिया गया है। शेष 212 किलोमीटर राजमार्ग डेढ़ साल में बना लिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें -धन्यवाद भारतीय सेना : बर्फबारी के बी जवानों ने दो गर्भवतियों को 5 किमी कंधे पर उठाकर अस्पताल पहुंचाया।

दो लेन राजमार्गो की चौड़ाई 10 मीटर है। चारधाम परियोजना पूरी होने पर इसकी लंबाई 890 किलोमीटर है जिसमें 65 किमी. की कमी आने पर 825 किमी. रह जाएगी। अधिकारियों की माने तो परियोजना में कई स्थानों पर नया एलाइनमेंट व बाईपास बनाए जा रहे हैं।

10 मी. चौड़ा होगा हाईवे तो सेना के वाहन बॉर्डर पर तेजी से पहुंच सकेंगे

राष्ट्रीय राजमार्ग बनने से क्षेत्रीय लोगों के साथ आने वाले तीर्थ यात्रियों का समय कम हो जाएगा। जानकारी के अनुसार परियोजनाओं के 13 पैकेज के तहत 188 किमी. राजमार्ग निर्माण की अभी मंजूरी नहीं मिली सकी है। इसमें गंगोत्री इको सेंसिटिव जोन के राजमार्ग शामिल हैं।

यह मामला अभी सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित समिति के समक्ष विचाराधीन है। जिसमें चारधाम परियोजना में राष्ट्रीय राजमार्ग की लंबाई 10 मीटर से घटाकर सात मीटर करने की है। वहीं सरकार का तर्क है कि अधिक चौड़ा राजमार्ग (10 मीटर) होने पर यातायात सुगम चलता है, विशेषकर आपातकाल में सेना के भारी वाहनों को तेज से गति से चीन बार्डर पर पहुंचना आसान होगा। उन्होंने कहा कि समिति से हरी झंडी मिलने के बाद उक्त पैकेज को स्वीकृत कर सड़क निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

ग्लेशियर फटने से हुई तबाही का कारण चारधाम परियोजना नहीं

सड़क परिवहन मंत्रालय के अधिकारियों का दावा है कि गत फरवरी उत्तराखंड में ग्लेशियर फटने से हुई तबाही का कारण चारधाम परियोजना नहीं है। चारधाम परियोजना के शुरू करने से पहले भारतीय सर्वेक्षण विभाग के विशेषज्ञों से सलाह दी गई। इसके अलावा इसरो, डीआरडीओ, उत्तराखंड के आपदा प्रबंधन विभाग के विशेषज्ञ व वैज्ञानिकों ने ग्लेशियर के फटने का कारण चारधाम परियोजना को नहीं बताया है। धरासू-गंगोत्री के बीच लगभग 124 किलोमीटर राजमार्ग निर्माण किया जाना है। इसके 94 किलोमीटर का हिस्सा इको सेसिंटिव जोन के चलते खतरनाक भूस्खलन जोन में आता है। इसलिए यहां राजमार्ग की चौड़ाई कम रखी जाएगी।

Khabreelal News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… हमारी कम्युनिटी ज्वाइन करे, पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें

Whatapp ग्रुप ज्वाइन करे Join
Youtube चैनल सब्सक्राइब करे Subscribe
Instagram पर फॉलो करे Follow
Faceboook Page फॉलो करे Follow
Tweeter पर फॉलो करे Follow
Telegram ग्रुप ज्वाइन करे Join

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

और खबरें पढ़ें

उत्तराखंड

उत्तराखंड से एक मामला सामने आया है। जहां भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जब हेलिकाप्टर से बागेश्वर पहुंचे तो वहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।...

उत्तराखंड

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने से आई जल प्रलय में लापता हुए 204 में से 62 के शव मिल चुके हैं जबिक 142...

उत्तरप्रदेश

उत्तराखंड के चमोली ( Chamoli) में आई जल प्रलय ने सब कुछ तबाह कर दिया है। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के भी चार...

उत्तराखंड

उत्तराखंड में 7 फरवरी को आई जलप्रलय में लापता हुए मेरठ के मजदूरों का 2 दिन बाद घर पर फोन आ गया। लापता मजदूरों...

उत्तराखंड

उत्तराखंड के चमोली में 7 फरवरी को ग्लेशियर टूटने के बाद आई जल प्रलय में उत्तरप्रदेश के बिजनौर के 7 मजदूर लापता हैं। इन...

उत्तराखंड

उत्तराखंड में आई जलप्रलय के कारण मेरठ, बिजनौर और अमरोहा के लापता लोगों की कुशलता का समाचार मिला है। बताया जा रहा है सभी...

देश

उत्तराखंड के चमोली में रविवार को ग्लेशियर टूटने से ऋषिगंगा और धौलीगंगा नदियां उफान पर आ गईं। इससे वहां चल रहे पावर प्रोजेक्ट और...

उत्तराखंड

उत्तराखंड के चमोली में तपोवन प्रोजेक्ट में काम कर रहे लोगों के लिए रेस्क्यू जारी है। ITBP के जवान स्निफर डॉग की मदद ली...

देश

उत्तराखंड के चमोली जिला में नंदादेवी ग्लेशियर फटने से भारी तबाही आ गई है। इस हादसे के बाद कम से कम 150 लोगों के...

देश

चमोली जिले में ऋषिगंगा और फिर धौलीगंगा पर बने हाइड्रो प्रोजेक्ट का बांध टूटने से गंगा और उसकी सहायक नदियों में बाढ़ का खतरा...

उत्तराखंड

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने से अलकनंदा में आया जल सैलाब सब को बहाकर ले जा रहा है। हालांकि उत्तराखंड सरकार का कहना...

देश

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने से बड़ी त्रासदी हुई है। पानी के तेज बहाव ने कई बांध, पुलों को तहसनहस कर दिया है।...

देश

उत्तराखंड के चमोली जिले के रैनी जोशीमठ में रविवार सुबह ग्लेशियर फट गया। इस हादसे में 150 से ज्यादा लोग लापता हैं। बताया जा...

उत्तरप्रदेश

उत्तराखंड के जोशीमठ में बड़ा हादसा हुआ है। जोशीमठ में ग्लेशियर गिरने से डैम (Dam Broken in Uttarakhand Joshimath) टूट गया है। इस हादसे...

खबरीलाल

उत्तराखंड के चमोली में बड़ा हादसा होने की खबर सामने आ रही है। जहां नंदा देवी क्षेत्र में एक ग्लेशियर टूटने से हादसा हुआ...

खबरीलाल

उत्तखण्ड के उत्तरकाशी में भारतीय जनता पार्टी समर्थक मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष पुरुषोत्तम नारायण श्रीवास्तव की संस्तुति पर भाजपा समर्थक मंच अल्पसंख्यक मोर्चा के...

देश

भारत में शुक्रवार अलसुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं।। पहले ओडिशा और उसके बाद उत्तराखंड में लोगों ने भूकंप के झटके महसूस...

Advertisement