देश में दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना यूपी, तमिलनाडु को पछाड़ छठे से दूसरे नंबर पर पहुंचा प्रदेश

 महाराष्ट्र के बाद उत्तर प्रदेश की जीएसडीपी दूसरे नंबर पर पहुंच गई है। महाराष्ट्र की 2020-21 में जीएसडीपी 30.7 लाख करोड़ रुपये है। जबकि यूपी की 19.48 लाख करोड़ रुपये है।

 | 
UP

 2016 में बेरोजगारी दर 17 फीसदी थी, वह अब गिरकर 4 फीसदी रह गई है। सरकार ने 4.5 लाख युवाओं को सरकारी नौकरियां दी हैं।

news shorts

कोविड-19 महामारी के बावजूद उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था (Uttar Pradesh Economy) ने 2020-21 में लंबी छलांग लगाई है। वह राज्यों के आधार पर देश में दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था (2nd largest economy in India) बन गई है। उत्तर प्रदेश ने तमिलनाडु, कर्नाटक, गुजरात को पीछे छोड़ते हुए यह उपलब्धि हासिल की है। प्रदेश की जीएसडीपी (सकल राज्य घरेलू उत्पाद) 19.48 लाख करोड़ रुपये हो गई है। सरकार का दावा है कि दूसरे नंबर पर पहुंचने की बड़ी वजह, प्रदेश में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस आसान होना और बड़े पैमाने पर निवेश आना रहा है। Read ALso : Who is Sneha Dubey: UNGA में पाकिस्तान के 'कश्मीर पर झूठ' की 'स्नेहा दुबे' ने उड़ा दी धज्जियां, इमरान खान को लगाई लताड़

 

whatsapp gif

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार,  वित्त विभाग की रिपोर्ट के आधार पर महाराष्ट्र के बाद उत्तर प्रदेश की जीएसडीपी दूसरे नंबर पर पहुंच गई है। महाराष्ट्र की 2020-21 में जीएसडीपी 30.7 लाख करोड़ रुपये है। जबकि यूपी की 19.48 लाख करोड़ रुपये है। वहीं तीसरे नंबर पर तमिलनाडु की जीएसडीपी 19.2 लाख करोड़ रुपये है। इसी तरह 18 लाख करोड़ रुपये की जीएसडीपी के साथ कर्नाटक चौथे नंबर पर और गुजरात 17.3 करोड़ रुपये के साथ 5 वें नंबर पर है। जबकि 2019-20 में उत्तर प्रदेश 5 वें स्थान पर था। वहीं महाराष्ट्र पहले नंबर पर, तमिलनाडु दूसरे नंबर पर, गुजरात तीसरे नंबर पर, कर्नाटक चौथे नंबर पर था। Read Also : दिल्ली में होगी बड़ी गैंगवार! दीपक बॉक्सर संभाल सकता है गोगी गैंग की कमान; जानिए बॉक्सिंग चैंपियन कैसे बना गैंगस्टर

 

छठवें से दूसरे नंबर पर लाए- मुख्यमंत्री

15 सितंबर,2021 को यूपी की राजधानी लखनऊ में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा "2015-16 में यूपी की अर्थव्यवस्था देश में छठवें नंबर पर थी। वह अब दूसरे नंबर पर पहुंच गई है। इस बढ़ोतरी का सीधा मतलब है कि लोगों की आय बढ़ी है। 2016 में बेरोजगारी दर 17 फीसदी थी, वह अब गिरकर 4 फीसदी रह गई है। सरकार ने 4.5 लाख युवाओं को सरकारी नौकरियां दी हैं। इसी तरह 2018 तक प्रदेश में एक भी इनवेस्टर समिट नहीं हुई थी। हमने पहली इनवेस्टर समिट कराई। और अब तक 3 लाख करोड़ रुपये के प्रस्ताव जमीन पर उतर चुके हैं। इसी तरह ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में प्रदेश 2015-16 में 14 वें स्थान पर था, आज उत्तर प्रदेश नंबर-2 पर है। इन आंकड़ों का सीधा मतलब है सरकार के रिफॉर्म का असर दिख रहा है।"

 

Shudh bharat

ओडीओपी स्कीम पर खास जोर

इसके अलावा प्रदेश सरकार अपनी वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट स्कीम का भी तेजी से दायरा बढ़ा रही है। इसी के तहत सरकार ODOP(वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट) का अपना ई-कॉमर्स पोर्टल लांच करने जा रही है। जहां पर ओडीओपी से जुड़े कारीगर अपने उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री कर सकेंगे। इस समय अमेजन, फ्लिपकार्ट, ईबे जैसे ई-कॉमर्स पोर्टल पर ओडीओपी के 11 हजार उत्पाद जुड़े हुए हैं। जिनके जरिए कारीगरों ने 24 करोड़ रुपये की कमाई की है। 

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।