रिहा हुए गुरनाम सिंह चढूनी; लखीमपुर जाते समय मेरठ पुलिस ने किया था गिरफ्तार; देर रात तक पुलिस लाइन पर किसानों का हंगामा

 | 
gurnam
 

मेरठ पुलिस ने सयुंक्त किसान मोर्चा के नेता गुरनाम सिंह चढूनी को रिहा कर दिया। मेरठ के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने मीडिया को बताया कि लखीमपुर खीरी में धारा 144 लागू है और गुरनाम सिंह वहां जाने का प्रयास कर रहे थे। उनके वहां जाने से कानून व्यवस्था प्रभावित हो सकती थी, जिसे देखते हुए हमने उन्हें हिरासत में लिया था, लेकिन अब उन्हें रिहा कर दिया है। गुरनाम सिंह की रिहाई की मांग को लेकर किसानों ने हरियाणा से लेकर उत्तरप्रदेश के कई जगह पर प्रदर्शन किया। मेरठ पुलिस लाइन पर भी देर रात तक इसको लेकर किसानों का हंगामा चलता रहा। वहीं रालोद अध्य्क्ष जयंत चौधरी ने भी मेरठ आकर धरना देने की चेतावनी दी थी।

gurnaam singh
रिहा होने के बाद समर्थकों का धन्यवाद करते किसान नेता गुरनाम सिंह


बता दें कि लखीमपुर खीरी में हुए बवाल को देखते हुए पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी किया गया था। कानून व्यवस्था न बिगड़े इसके चलते विपक्ष के नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने पर रोक थी, लेकिन शासन ने किसान नेताओं को लखीमपुर आने की अनुमति दे रखी थी। 


इसी के चलते सयुंक्त किसान मोर्चा के नेता गुरनाम सिंह चढूनी भी लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हुए थे, लेकिन मेरठ में किठौर थाने के सामने चेकिंग के दौरान उनकी कार को रोकते हुए  एएसपी चंद्रकांत मीणा के नेतृत्व में एसओजी, सर्विलांस, किठौर पुलिस ने चढूनी और उनके 2 साथियों को हिरासत में ले लिया था। 

meerut
मेरठ पुलिस लाइन के बाहर धरने पर बैठे किसान नेता गुरनाम सिंह के समर्थक

हरियाणा में किसानों ने जाम किया हाइवे

हालांकि मामले को लेकर देर रात तक भी पुलिस ने कुछ भी नहीं बताया था, जिसके चलते गुरनाम सिंह के समर्थकों में गुस्सा था। गुरनाम सिंह चढूनी की गिरफ्तारी की खबर हरियाणा पहुंचते ही किसान विरोध में उतर आए। सोनीपत में किसानों ने रोहतक पानीपत हाईवे जाम कर दिया। किसानों ने कहा कि जब तक गुरनाम सिंह को रिहा नहीं किया जाएगा तब तक जाम नहीं खोलेंगे। इस दौरान हरियाणा पुलिस से किसानों की तीखी बहस हुई। 

भाकियू के प्रदेश उपाध्यक्ष सत्यवान नरवाल ने कहा कि गुरनाम सिंह चढूनी उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी से वापस दिल्ली आ रहे थे। पता चला है कि उन्हें मेरठ पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

गुरनाम
रालोद के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ गुरनाम सिंह चढूनी


मेरठ पुलिस लाइन पर किसानों का हंगामा

उधर देर रात तक भी गुरनाम सिंह को नहीं छोड़े जाने पर राष्ट्रीय जाट महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष रोहित जाखड़ दर्जनों किसानों के साथ रात में ही पुलिस लाइन पहुंचे। रोहित जाखड़ ने गुरनाम सिंह चढूनी से मिलवाने की मांग की, लेकिन उन्हें मिलने नहीं दिया गया। इसको लेकर खूब हंगामा हुआ। इसके बाद मेजर डॉ. हिमांशु भी बड़ी संख्या में समर्थकों के साथ वहां पहुंचे और पुलिस लाइन के गेट के बाहर धरने पर बैठकर नारेबाजी शुरू कर दी। वहीं धरने की सूचना पर रालोद के प्रदेश संगठन प्रभारी डॉ. राजकुमार सांगवान और बड़ी संख्या में रालोद कार्यकर्ताओं ने भी पुलिस लाइन के गेट पर हंगामा करते हुए गुरनाम सिंह चढूनी को छोड़ने की मांग की।


देर रात तक लगा रहा किसानों का आना

भारतीय किसान यूनियन के पूर्व जिलाध्यक्ष मनोज त्यागी और प्रवक्ता बबलू जिटौली भी दर्जनों किसानों के साथ पुलिस लाइन पर डट गए। देर रात तक दूर-दूर के गांवों से किसानों का आना लगा रहा। किसानों ने साफ कहा कि जब तक चढूनी को नहीं छोड़ा जाएगा तब तक यहां से नहीं हटेंगे। उधर मेरठ व्यापार मंडल के जीतू नागपाल और प्रसपा नेता शैंकी वर्मा भी अपने समर्थकों के साथ वहां पहुंच गए। बड़ी संख्या में किसानों के हंगामे को देखते हुए मेरठ पुलिस ने गुरनाम सिंह को रिहा करने की बात कही, तब जाकर किसान शांत हुए।

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।