UP : स्मार्ट बनेगी उत्तर प्रदेश पुलिस की वर्दी, पुलिसकर्मियों की वर्दी (खाकी) पर हमला हुआ तो फ़ौरन मदद बुला लेगी वर्दी

बनारस के युवा होनहार वैज्ञानिक और मिसाइल ब्वॉय के नाम से मशहूर श्याम  चौरसिया ने पुलिस कर्मियों पर हमले की घटनाओं को देखते हुए उनके लिए वर्दी डिजाइन की है। खतरे में फंसे पुलिसकर्मियों को केवल एक बटन दबाना है।ये स्मार्ट वर्दी बनारस के एक होनहार युवा वज्ञानिक ने तैयार की है। इसकी रेंज करीब 2 किलोमीटर होगी। 
 | 
smart vardi
अब अगर पुलिस की खाकी वर्दी पर हमला हुआ तो खाकी वर्दी फ़ौरन मदद बुला लेगी। हमलावरों की पहचान करने के अलावा ये उनकी स्मार्ट वर्दी उनको पकड़वाने में भी मदद करेगी। बनारस के युवा होनहार वैज्ञानिक और मिसाइल ब्वॉय के नाम से मशहूर हरीश चौरसिया ने पुलिस कर्मियों पर हमले की घटनाओं को देखते हुए उनके लिए ये स्मार्ट वर्दी डिजाइन की है। खतरे में घिर चुके पुलिसकर्मियों को स्मार्ट वर्दी का केवल एक बटन दबाना होगा। बटन दबाते ही स्मार्ट वर्दी में लगा स्मार्ट सिस्टम एक्टिवेट होकर अलर्ट और लोकशन और हमलावरों की फोटो भी कंट्रोल रूम और नजदीक के पुलिस स्टेशन पर भेज देगा। Read Also:-दिल्ली जैसा मामला उत्तर प्रदेश में भी! हत्या करने के बाद लड़की के शव के किए टुकड़े कर कुएं में फेंक दिया.....

 

वैज्ञानिक श्याम चौरसिया का दवा है की पूर्व में पुलिस कर्मियों पर हुए हमले की पुरनावृत्ति  पायेगी।  वैज्ञानिक श्याम चौरसिया को इस स्मार्ट वर्दी को तैयार करने में करीब तीन महा का समय लगा।  इस स्मार्ट वर्दी में दोनों साइड देखने वाले बॉडी कैम सहित सेंसर और एडवांस चिप का प्रयोग किया गया है। स्मार्ट वर्दी में अंदर की साइड में लगी ये डिवाइस वर्दी पहनने के दौरान बिलकुल भी परेशानी नहीं करती।

 

 पुलिस कर्मी को खतरे का आभास होते ही जेब के पास लगा एक बटन को दबाना होगा। बटन दबाते ही वर्दी में लगा सिस्टम तत्काल निकट के थानाचौकी और कंट्रोल रूम को अलर्ट भेज देगा। वज्ञानिक चौरसिया ने बताया की की इस स्मार्ट वर्दी का प्रोटोटाइप बनाने में 18000/- का खर्च आया है। इसे बनाने में फाइनेंसियल   हेल्प राजयमंत्री और विधायक रविंद्र जायवाल जी ने की है। 

 

यह स्मार्ट डिवाइस इस तरह करता है काम 
पुलिसकर्मी के खतरे में पड़ जाने पर वर्दी में लगा बटन दबाते ही सिस्टम उस पुलिसकर्मी की लोकशन ट्रेस करेगा। इस के उपरांत वह चिप में पहले से ही फीड सभी थाना और चौकी की लोकशन का मिलान कर नजदीकी पुलिस थाना को अलर्ट भेज देगा। और दूसरे वाले सिस्टम की रेंज करीब 50 किलोमीटर होगी ये खतरे का अलर्ट आसपास के 6 थानों और सभी पुलिस चौकियों और कंट्रोल रूम को भेज देगा।  डिवाइस की प्रॉक्सिमिटी करीब दस मीटर की रेंज में होगी। 
sonu

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।