पंजाब के सीएम बोले : 113 स्थानों पर चल रहा आंदोलन, राज्य को हो रहा आर्थिक नुकसान, पंजाब, हरियाणा जांए किसान

पंजाब के मुख्यमंत्री ने किसानों से आग्रह किया है कि धरना प्रदर्शन से राज्य को बड़े स्तर पर आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। उनका किसानों से आग्रह है कि वह हरियाणा या दिल्ली में जाकर धरना करें। 
 | 
cm amrindra singh
पंजाब में कृषि कानूनों के विरोध में धरना-प्रदर्शन से राज्य सरकार को अब आर्थिक नुकसान नजर आ रहा है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों से आग्रह किया है कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ राज्य में धरना-प्रदर्शन करने की जगह इसे दिल्ली की सीमाओं या हरियाणा में स्थानांतरित करें।  कैप्टन ने कहा कि पंजाब में 113 स्थानों पर चल रहे उनके आंदोलन से राज्य का आर्थिक विकास बाधित हो रहा है। राज्य को इससे बड़ा आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है, कई कंपनियां यहां से जाने का मन बनाने लगी हैं।
सोमवार पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा "मैं किसान भाइयों से कहना चाहता हूं कि यह आपका पंजाब है, आपके गांव हैं, आपके लोग हैं। आप दिल्ली (सीमा) पर जो करना चाहते हैं, वह करें, उनपर (केंद्र) दबाव बनाएं और उन्हें सहमत करें।’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्या आप जानते हैं कि पंजाब में भी 113 जगहों पर किसान बैठे हैं? इससे क्या लाभ होगा? पंजाब को आर्थिक नुकसान होगा। वे (अन्य किसान) इसे दिल्ली (सीमाओं) और हरियाणा में कर रहे हैं। आप भी इसे वहीं करें।" 

113 स्थानों पर चल रहे आंदोलन

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को किसानों से आग्रह किया कि वे केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ राज्य में धरना-प्रदर्शन करने की जगह इसे दिल्ली की सीमाओं या हरियाणा में स्थानांतरित करें। सिंह ने किसानों से कहा कि पंजाब में 113 स्थानों पर चल रहे उनके आंदोलन से राज्य का आर्थिक विकास बाधित हो रहा है और इसलिए वे दिल्ली की सीमाओं पर जाकर केंद्र पर दबाव बनाएं।  पढ़ें - एमपी के कॉलेजों में छात्र पढ़ेंगे रामायण और वेद, पाठ्यक्रम में किया गया बदलावएमपी के कॉलेजों में छात्र पढ़ेंगे रामायण और वेद, पाठ्यक्रम में किया गया बदलाव।
सीएम ने उम्मीद जताई कि किसान उनका अनुरोध स्वीकार करेंगे। मुखलियाना गांव में 13.44 करोड़ रुपये की लागत वाले सरकारी कॉलेज की आधारशिला रखने के बाद होशियारपुर में एक सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब को विकास की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मैं पंजाब के किसानों को बताना चाहता हूं कि यह उनकी जमीन है। यहां उनका चल रहा विरोध प्रदर्शन राज्य हित में नहीं है। राज्य में विरोध प्रदर्शन करने के बजाय किसानों को केंद्र पर कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए दबाव बनाना चाहिए। सिंह ने केंद्र से तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने का भी आग्रह किया।

बादल परिवार की निदां की

मुख्यमंत्री ने शुरू में कृषि अध्यादेशों का समर्थन करने और बाद में किसानों के आक्रोश का सामना करने के बाद इस मुद्दे पर यू-टर्न लेने के लिए बादल परिवार की निंदा की। इससे पहले, एसबीएस नगर में भी सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने बादल परिवार पर निशाना साधा। 

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।