Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

मेरठ : विधायक जी आपका यह सम्मान, खतरे में डाल देगा कोरोना योद्धाओं की जान; सांसद जी के लिए भी मायने नहीं रखता सोशल डिस्टेंस

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने इस समय सबसे बड़ा उपचार सोशल डिस्टेंसिंग को माना जा रहा है, लेकिन मेरठ में न तो जिला अधिकारी इसका पालन कर रहे हैं और न ही सांसद और विधायक। जबकि ये ही अधिकारी और जनप्रतिनिधि जनता को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पड़ा रहे हैं, लेकिन खुद इसका जरा भी पालन नहीं कर रहे।


जिन जनप्रतिनिधियों पर इस कोरोना जैसी इस आपदा में जनता की सुरक्षा का जिम्मा है वे ही जनप्रतिनिधि जनता के साथ ही कोरोना योद्धाओं की जान जोखिम में डाल रहे हैं। यानि विश्वभर में फैली इस आपदा को लेकर हर तरफ चिंता का माहौल है लेकिन यहां के नेताओं ने मानों इस आपदा को एक तरह से अपने लिए अवसर मान लिया है। नेताओं की गतिविधियां न सिर्फ उनको बल्कि आम जनता को भी मुसीबत में डालने का काम कर रही हैं।कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने इस समय सबसे बड़ा उपचार सोशल डिस्टेंसिंग को माना जा रहा है, लेकिन मेरठ में न तो जिला अधिकारी इसका पालन कर रहे हैं और न ही सांसद और विधायक। जबकि ये ही अधिकारी और जनप्रतिनिधि जनता को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पड़ा रहे हैं, लेकिन खुद इसका जरा भी पालन नहीं कर रहे। इतना ही नहीं मेरठ कैंट विधायक तो कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करने के नाम पर भीड़ जुटा ली और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा दी। यानि विधायक की जरा सी लापरवाही से जिन कोरोना योद्धाओं पर पूरे शहर का जिम्मा है वे संक्रमण का शिकार हो सकते हैं।

विधायक जी के लिए मायने नहीं रखता  सोशल डिस्टेंस

दरअसल विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल ने कंकरखेड़ा में पार्षद प्रिया शाक्य के आास पर टीकाराम चमेली देवी सरकारी अस्पताल की हेड और  उनके स्टाफ के साथ ही कंकरखेड़ा थाना पुलिस और सफाई सुपरवाइजर व सफाई कर्मचारियों को कोरोना संक्रमण के काल में भी लगातार जनता की सेवा में काम करने के चलते सम्मानित किया। इस दौरान विधायक, थाना प्रभारी विजेंद्र पाल, पार्षद प्रिया शाक्य के अलावा करीब दो दर्जन लोग वहां मौजूद थे। कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करने के उत्साह में विधायक जी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना ही  भूल गए। तस्वीरे लेने के लिए एक दूसरे सटकर खड़े हुए, लेकिन यह ख्याल किसी को नहीं रहा कि यदि जरा सी लापरवाही से खुद विधायक  जी और अन्य  लोग संक्रमित भी हो सकते हैं। यह हाल तब है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि कोरोना वायरस से प्रधानमंत्री से लेकर गांव के एक आम आदमी को भी खतरा है और यह नियम सभी के लिए हैं, लेकिन विधायक श्रेय लेने की होड़ में प्रधानमंत्री की अपील को भी नजरअंदाज कर  गए।

डीएम और  सांसद भी साथ, सामाजिक दूरी नजर नहीं आई

सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने वाले दूसरे जिम्मेदार हैं डीएम अनिल ढींगरा और सांसद राजेंद्र अग्रवाल। इन दोनों ने संयुक्त रूप  से रविवार को बैजल भवन में जिला प्रशासन द्वारा संचालित सामुदायिक रसोई और सैनेटाइजेशन गैलरी का शुभांरभ किया था। यहां भी कई लोग जुटे थे, लेकिन फीता काटने से लेकर खाना  वितरित करने तक कहीं पर भी सोशल डिंस्टेंसिंग नजर  नहीं आई। सभी सटकर खड़े हुए जिससे संक्रमण फैलना का डर बना हुआ हैं।

खैरनगर व्यापार संघ ने भी तोड़े नियम

खैरनगर व्यापार संघ ने तो सोशल डिस्टेंसिंग को पूरी तरह से नजर अंदाज कर दिया। इन्होंने भी काेरोना  योद्धाओं को सम्मानित किया, लेकिन फाेटो खिचवाने की होड़ में ये भी एक  दूसरे से चिपककर खड़े हुए।
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Advertisement
Advertisement

और खबरें पढ़ें

Advertisement