Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

Farmers protest : क्यों सड़क पर उतरे हैं किसान? जानिए MSP को लेकर क्या हैं उनकी चिंताएं

कृषि कानून (Agricultural law) विरोध (Farmers protest) में किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। मंगलवार को दोपहर 3 बजे सरकार ने किसानों को वार्ता के लिए बुलाया है। हालांकि पहले ही किसान संगठन अपना रुख साफ कर चुके हैं। उनका कहना है कि MSP और मंडी के मुद्दे पर उन्हें लिखित गारंटी चाहिए। किसान संगठनों का कहना है कि नया कानून जैसे ही लागू होगा उसके बाद धीरे धीरे MSP खत्म होने लगेगी। किसानों की मांग है कि MSP हमेशा के लिए बनी रहे, वो इस बात को कानून में शामिल करवाना चाहते हैं।

आखिर क्या है किसानों का डर? 
किसान संगठनों का कहना है कि केंद्र द्वारा लागू किया गया कानून जब असर दिखाएगा तो APMC एक्ट कमजोर होगा, जो मंडियों को ताकत देता है। ऐसा होते ही MSP की गारंटी भी खत्म होने लगेगी जिसका सीधा नुकसान भविष्य में किसान को उठाना होगा। यही कारण है किसान चाहते हैं कि MSP को कानून का हिस्सा बना दिया जाए।

किसानों ने इसके लिए टेलिकॉम कंपनियों का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि शुरुआत में टेलिकॉम कंपनियों (telecom Company) ने मुफ्त का डाटा (Free Data) दिया और जब लोग उसके आदि बन गए तो दाम बढ़ा दिए। ऐसा ही उनके साथ होने जा रहा है। किसानों के मुताबिके कानून लागू होने के बाद कॉरपोरेट खरीदार अधिक दाम पर फसल ले सकते हैं, लेकिन उनपर MSP का कोई दबाव नहीं होगा तो वो मनचाहा दाम लेंगे उस वक्त तब किसान के पास कोई विकल्प नहीं होगा।

मंडी को लेकर भी डर

Advertisement. Scroll to continue reading.

इसके साथ ही मंडी सिस्टम को लेकर भी किसानों के दिल में डर है। किसानों के मुताबिक अगर मंडी से बाहर खुले तौर पर फसल खरीद-बेचने की छूट होगी तो मंडियां कमजोर होंगी जिससे आगे जाकर उन्हें बंद करने की नौबत आ सकती है। किसानों का कहना है कि मंडी का मजबूत होना जरूरी है, क्योंकि मौजूदा वक्त में वो अपनी जरूरत के हिसाब से आढ़तियों से पैसा ले लेते हैं, चाहे फसल आने में वक्त हो। ऐसे में किसानों को मदद होती है, लेकिन कॉर्पोरेट के साथ इस तरह के रिश्ते बनाना आसान नहीं होगा।

Farmers Protest : प्रदर्शनकारी दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर डटे, आज 3 बजे किसान और सरकार के बीच होगी वार्ता via

एक किसान ने कहा कि कुछ वक्त पहले उन्होंने 200 क्विंटल फसल बेची, उन्होंने आड़ती को फसल दी और 1888 प्रति क्विंटल के हिसाब से उन्हें पैसा मिल गया। लेकिन अब मुझे ये भरोसा नहीं है कि क्या अगली बार MSP के हिसाब से पैसा मिलेगा या नहीं, इसी चिंता को दूर करने की जरूरत है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

क्या कह रही है सरकार?
किसानों की मुख्य चिंता MSP को लेकर है, सरकार भी लगातार किसानों को विश्वास दिला रही है कि MSP खत्म नहीं होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर समेत अन्य मंत्री-नेता इसपर विश्वास दिला चुके हैं, लेकिन किसान नहीं मान रहे हैं। किसानों का सीधा कहना है कि अगर MSP खत्म नहीं करनी है तो सरकार इसे कानून में शामिल कर दे, लेकिन सरकार उसपर राजी नहीं है। पीएम मोदी ने सोमवार को अपने संबोधन में भी कहा कि उनकी सरकार के कार्यकाल में मंडी और MSP सिस्टम को मजबूत करने का काम हुआ है, ऐसे में वो क्यों इन्हें खत्म करेंगे।

MSP क्या है ? 
आपको बता दें कि किसानों को उनकी फसलों की लागत से ज्यादा मूल्य मिलने की गारंटी हो इसके लिए सरकार देशभर में अनाज, तिलहन, दलहन आदि की मुख्य फसलों के लिए एक न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) तय करती है। खरीदार नहीं मिलने पर सरकार अपने खरीद केंद्रों के माध्यम से MSP पर किसान से फसल खरीद लेती है। MSP निर्धारित करते वक्त कृषि पैदावार की लागत, मूल्यों में परिवर्तन, मांग-आपूर्ति जैसी कई बातों का ध्यान रखा जाता है. यही कारण है कि किसानों की चिंताएं कम होती हैं और उन्हें नुकसान नहीं उठाना होता है।

Khabreelal News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें Khabreelal न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Khabreelal फेसबुक पेज लाइक करें 

Advertisement. Scroll to continue reading.

Farmers Protest, MSP, Farms law, krshi kaanoon, farmes protest in delhi, msp protest, kisan aandolan, punjab farmers

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

देश

कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्‍त किसान मोर्चा ने गुरुवार (18 फरवरी) को देशव्‍यापी ‘रेल रोको आंदोलन’ का ऐलान किया है। इसके तहत दोपहर...

देश

ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने बेंगलुरु से 21 साल की जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि (Climate activist) को गिरफ्तार किया।...

देश

लोकसभा में किसान आंदोलन और कृषि कानूनों पर बोलते हुए पीएम मोदी आक्रामक अंदाज में नजर आए। उन्होंने इस मुद्दे पर विपक्ष के हंगामे...

देश

कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ आंदोलन के दौरान किसान कल यानी शनिवात को देशभर में चक्का जाम (Chakka Jam) करेंगे। किसान संगठनों ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश...

देश

किसान आंदोलन ( Farmers Protest ) 70 दिन से चल रहा है, लेकिन इसके बावजूद एक भी बॉलीवुड सेलिब्रिटी ने आंदोलन को लेकर एक...

देश

Farmer’s Protest: किसानों के प्रदर्शन को लेकर ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg), रिहाना (Rihanaa) और मिया खलीफा सहित कई इंटरनेशल सेलेब्रिटी के ट्वीट को लेकर दिल्‍ली पुलिस...

खबरीलाल

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन को दो माह से ज्यादा हो गया है। अब इस बीच विदेशी सिंगर रिहाना और ग्रेटा थनबर्ग...

खबरीलाल

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में आज बिजनौर जजी चोक पर दर्जनों अधिवक्ताओं ने किसानों के समर्थन में प्रदर्शन किया और...

बागपत

बागपत में दिल्ली-सहारनपुर हाईवे पर चल रहे कृषि कानूनों के खिलाफ धरने में पुलिस द्वारा जबरन उठाने व बल प्रयोग करने पर भारतीय किसान...

मेरठ

गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान हुई हिंसा ने किसान आंदोलन में दरार पैदा कर दी है।...

उत्तरप्रदेश

किसान आंदोलन (Farmers Protest) के बीच गणतंत्र दिवस पर (Republic Day 2021) किसान ट्रैक्टर परेड (Tractor Parade) निकालने की तैयारियों में जुटे हैं। किसानों...

देश

कृषि कानूनों (Farms law) को लेकर शुक्रवार को किसानों और केंद्र सरकार के बीच विज्ञान भवन (Vigyan bhavan) में हुई 11 वे दौर की...

देश

कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसानों के आंदोलन को शुक्रवार को 51 दिन हो गए। सरकार और किसानों के बीच बीती 9...

खबरीलाल

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले (Bijnor district) में लोहड़ी (Lohri) पर किसानों द्वारा नए कृषि कानूनों (Farms law)की प्रतियां जलाने का मामला सामने आया...

Advertisement
Advertisement
Advertisement
DMCA.com Protection Status