BREAKING : लखीमपुर खीरी हिंसा में बड़ा खुलासा, सामने आया गाड़ी से भागने वाला शख्स, बताया उस दिन का सच!

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक किसानों को कुचलने वाली गाड़ी से उतरकर भागने वाले शख्स केंद्रीय मंत्री का बेटा आशीष मिश्रा नहीं बल्कि नगर पालिका परिषद लखीमपुर में शिवपुरी वॉर्ड से बीजेपी सभासद सुमित जायसवाल था

 | 
sumit

उत्तरप्रदेश के लखीमपुर में 3 सितंबर को हुई हिंसा में बड़ा खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक किसानों को कुचलने बाद गाड़ी से उतरकर भागने वाले शख्स केंद्रीय मंत्री का बेटा आशीष मिश्रा नहीं बल्कि नगर पालिका परिषद लखीमपुर में शिवपुरी वॉर्ड से बीजेपी सभासद सुमित जायसवाल था, जो सामने आ गया है। आज तक कि रिपोर्ट के मुताबिक सुमित ने बताया कि हम लोग डिप्टी सीएम को लेने के लिए जा रहे थे, इसी दौरान किसानों ने हमारी गाड़ी पर पथराव कर दिया था, जिसके बाद गाड़ी कंट्रोल में नहीं रही थी।

sumit
Photo Source : आज तक

सुमित ने बताया कि हादसे के बाद किसानों ने गाड़ी के ड्राइवर को गाड़ी से खींचकर लाठी-डंडों से पीट-पीटकर मार डाला। सुमित के मुताबिक इसके बाद मेरे दोस्त शुभम मिश्रा की भी इसी तरह हत्या कर दी गई, मैं किसी जान बचाकर वहां से भाग गया। अगर मैं वहां रुक जाता या फंस जाता तो आज जिंदा नहीं होता। मैंने अपने दोस्त को अपनी आंखों के सामने मरते हुए देखा है।

सुमित ने आशीष मिश्रा के बारे में क्या कहा ? 

सुमित जायसवाल ने बताया कि किसानों को कुचलने वाली गाड़ी से निकलकर भागने वाला शख्स मैं ही हूं। सुनीत ने आशीष के बारे में बताया कि वो कुश्ती के कार्यक्रम में थे। सुमित ने यह भी कहा कि घटना का जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें आधा सच नजर आ रहा है, लेकिन जब आपकी गाड़ी पर पत्थरबाजी हो रही हो और आपकी जान को खतरा हो तो ऐसे वक्त में कौन व्यक्ति सही से गाड़ी चला पाएगा। सुमित ने कहा कि पत्थरबाजी के बाद गाड़ी कंट्रोल में नहीं रही थी और यह हादसा हो गया।

वो किसान नहीं, बाहरी उपद्रवी थे

सुमित जायसवाल का कहना है कि इस घटना के पीछे बहुत बड़ी साजिश है, क्योंकि भीड़ जिस तरह से मेरे दोस्त और ड्राइवर की बेरहमी से पिटाई कर रही थी उसे देखकर मेरी रूह कांप गई। उन सभी के हाथों में धारदार हथियार थे, वो मारो-मारो चिल्ला रहे थे। किसी एंगल से नहीं लग रहा था कि वो किसान थे, वे सभी बाहरी उपद्रवी लग रहे थे। सबका एक ही उद्देश्य था कि वे किसी तरह गाड़ी के अंदर बैठे लोगों को मार दें और गाड़ी में आग लगा दें।

 
सुमित जायसवाल ने ही कराई है FIR

बता दे कि सुमित जायसवाल की तहरीर पर ही पुलिस ने 10-15 अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या, आपराधिक षड्यंत्र और बलवा सहित कई धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। जबकि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा समेत 14 लोगों के खिलाफ सोमवार सुबह ही मुकदमा दर्ज कर लिया गया था। हालांकि अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है। पुलिस ने हिंसा के बाद वायरल वीडियो से 24 लोगों की शिनाख्त की है।

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।