Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

कृषि कानून : मोदी सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार, कहा- आप कानूनों को रोकेंगे या हम कदम उठाएं

किसान आंदोलन से जुड़ी याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस केंद्र सरकार से नाराज नजर आए। सरकार ने कोर्ट में कहा गया कि केंद्र सरकार और किसान संगठनों में हाल ही में हुई मुलाकात में तय हुआ है कि इस मुद्दे पर चर्चा चलती रहेगी और समाधान निकाला जाएगा। इस पर मुख्‍य न्‍यायाधीश ने इसपर नाराजगी जताते हुए कहा ‘ हम आपसे बहुत नाराज हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को फटकार लगाते हुए कहा कि, ‘आपकी ये दलील नहीं चलेगी कि इसे कोई और लाया था। ऐसी कोई दलील नहीं आई जिसमें इस कानून की तारीफ हो। हम किसानों के मामले में एक्सपर्ट नहीं हैं, लेकिन आप कानूनों को रोकेंगे या हम कदम उठाएं। हालात बदतर हो रहे हैं, लोग मर रहे हैं, ठंड में बैठे हैं। खाने, पानी का कौन ख्याल रख रहा है? हमें नहीं पता आप समाधान का हिस्सा हैं या समस्या हैं? ‘ हमें नहीं पता कि आपने कानून पास करने से पहले क्या किया।

CJI ने कहा कि इस आंदोलन के दौरन कुछ लोगों ने आत्महत्या भी की है, बूढ़े और महिलाएं प्रदर्शन का हिस्सा हैं। ये आखिर क्या हो रहा है? अभी तक एक भी याचिका दायर नहीं की गई है, जो कहे कि ये कृषि कानून अच्छे हैं। चीफ जस्टिस ने कहा कि हम सरकार से कानून वापस लेने के बारे में नहीं कह रहे हैं। हम सिर्फ इतना जानना चाह रहे हैं कि इसे कैसे संभाल रहे हैं। कानून के अमल पर ज़ोर मत दीजिए। फिर बात शुरू कीजिए। हमने भी रिसर्च किया है। एक कमिटी बनाना चाहते हैं। सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को कहा कि 41 किसान संगठन कानून वापसी की मांग कर रहे हैं, वरना आंदोलन जारी करने को कह रहे हैं।

कोर्ट ने कहा कि अगर कुछ गलत हुआ, तो हममें से हर एक जिम्मेदार होगा। हम नहीं चाहते हैं कि हमारे हाथों किसी का खून बहे। चाहिए। सीजेआइ ने कहा कि अगर केंद्र कृषि कानूनों के क्रियान्वयन को रोकना नहीं चाहता है, तो हम इस पर रोक लगाएंगे। कोर्ट ने आंदोलनकारियों के वकील से पूछा कि आप आंदोलन को खत्म नहीं करना चाह रहे हैं, आप इसे जारी रख सकते हैं। इस स्थिति में हम ये जानना चाहते हैं कि अगर कानून रुक जाता है, तो क्या आप आंदोलन की जगह बदलेंगे जब तक रिपोर्ट ना आए या फिर जहां हैं, वहीं पर प्रदर्शन करते रहेंगे?

बता दें कि पिछली सुनवाई में शीर्ष अदालत ने कानूनों को कुछ समय के लिए ठंडे बस्ते में डालने का सुझाव दिया था। इसके अलावा सरकार और आंदोलनकारी किसानों के बीच मतभेद दूर करने के लिए समिति बनाने की भी तजबीज पेश की थी। किसान संगठनों और सरकार के बीच हुई बातचीत का अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया है। किसान कृषि कानूनों को रद करने की मांग पर अड़े हुए हैं। हालांकि, केंद्र सरकार ने अभी तक बातचीत के जरिए समाधान निकलने की उम्‍मीद नहीं छोड़ी है। 15 जनवरी को किसान संगठनों और सरकार के बीच 9वें दौर की बैठक है।

दरअसल, कानून खत्म किए बिना किसान संगठन धरना-प्रदर्शन खत्म करने के लिए तैयार नहीं हैं। सरकार कानूनों में सुधार करने के पक्ष में है, इन्‍हें रद करने के नहीं। यहीं पेंच फंसा हुआ है। आज प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। यह सुनवाई इसलिए और अहम हो जाती है, क्योंकि सरकार और किसान संगठनों के बीच 15 जनवरी को अगले दौर की बातचीत होनी है।

सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान कहा था कि किसानों के प्रदर्शन को खत्म कराने के लिए जमीनी स्तर पर कोई प्रगति नहीं हुई है। जबकि, केंद्र ने अदालत को बताया था कि मामले को सुलझाने के लिए किसानों के साथ उसकी सकारात्मक बातचीत चल रही है। सरकार ने यह भी कहा था कि दोनों पक्षों के बीच जल्द ही सभी मसलों पर आम सहमति बनने की उम्मीद है। इसके बाद ही शीर्ष अदालत ने मामले में सुनवाई 11 जनवरी तक स्थगित कर दी थी।

Khabreelal News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… हमारी कम्युनिटी ज्वाइन करे, पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें

Whatapp ग्रुप ज्वाइन करे Join
Youtube चैनल सब्सक्राइब करे Subscribe
Instagram पर फॉलो करे Follow
Faceboook Page फॉलो करे Follow
Tweeter पर फॉलो करे Follow
Telegram ग्रुप ज्वाइन करे Join
Click to comment

Leave a Reply

Facebook

You May Also Like

देश

किसानों की गणतंत्र दिवस पर होने वाली ट्रैक्टर रैली को लेकर दिल्ली पुलिस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है। इस दौरान...

दुनिया

दुनिया के चौथे सबसे अमीर शख्स बिल गेट्स (Bill Gates) अमेरिका के सबसे बड़े किसान बन गए हैं। बिल गेट्स ने अमेरिका के 18...

देश

कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसानों के आंदोलन को शुक्रवार को 51 दिन हो गए। सरकार और किसानों के बीच बीती 9...

खबरीलाल

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले में लेखपाल का एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें वह एक किसान से जमीन के दाखिल ख़ारिज के...

देश

नए कृषि कानून के खिलाफ किसानों ने कल 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया है। इस बंद को कई राजनीतिक दलों और...

देश

कृषि कानूनों को लेकर बृहस्पतिवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर किसान नेताओं के साथ बैठक शुरू हुई।...

देश

कृषि कानून (Agricultural law) विरोध (Farmers protest) में किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। मंगलवार को दोपहर 3 बजे सरकार ने किसानों को वार्ता...

देश

कृषि कानूनों (Farms laws) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान (Farmers Protest) दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर डटे हुए हैं। किसानों बैरिकेडिंग हटाने के लिए ट्रैक्टर...

बिजनौर

बिजनौर (bijnor) के नूरपुर मे कृषि कानून के विरोध में ब्लाक अध्यक्ष लक्ष्मीकांत शर्मा के नेतृत्व में भारतीय किसान यूनियन (bharatiya kisan union) ने...

Advertisement
DMCA.com Protection Status
x
%d bloggers like this: