Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

भिखारी समझकर अफसरों ने दिए जूते-जैकेट, वो निकला उनका बैचमेट , पढ़े आगे क्या हुआ

ग्वालियर में अभी हाल ही में ही हुए उपचुनाव में मतगणना वाली रात का मामला है। रात करीब 1:30 बजे दो डीएसपी सुरक्षा में लगे थे। तभी उन्होंने सड़क किनारे ठंड से ठिठुर रहे और कचरे में खाना ढूंढ रहे भिखारी को देखा।

उनमे से एक अफसर ने जूते तो दूसरे ने अपनी जैकेट दे देता है. जब दोनों डीएसपी वहां से जाने लगते है तो भिखारी डीएसपी को नाम से पुकाराता है. जिसके बाद दोनों हैरान रह जाते हैं और पलट कर जब गौर से भिखारी को पहचानते है तो वह खुद भी हैरान रह गए क्योंकि भिखारी उनके साथ के बैच का सब इंस्पेक्टर मनीष मिश्रा था. जो 10 साल से सड़कों पर लावारिस घूम रहा था।

बिगड़ चुका है दिमागी संतुलन
दरअसल मनीष मिश्रा अपना दिमागी संतुलन खो बैठे हैं वह शुरुआत में 5 साल तक घर पर रहे इसके बाद घर में नहीं रुके यहां तक कि इलाज के लिए जिन सेंटर व आश्रम में दाखिल कराया वहां से भी भाग गए थे जो अब सड़कों पर भीख मांग कर अपनी ज़िंदगी गुज़ार रहे हैं।

थानेदार मनीष मिश्रा का निशाना था अचूक
ग्वालियर के झांसी रोड इलाके में सालों से सड़कों पर लावारिस घूम रहे मनीष साल 1999 पुलिस बैच के अचूक निशानेबाज़ थे. मनीष दोनों अफसरों के साथ 1999 में पुलिस सब इंस्पेक्टर में दाखिल हुए थे. दोनों डीएसपी रत्नेश सिंह तोमर और विजय भदोरिया ने इसके बाद काफी देर तक मनीष मिश्रा से पुराने दिनों की बात की और अपने साथ ले जाने की जिद की जबकि वह साथ जाने को राजी नहीं हुआ. आखिर में समाज सेवी तंज़ीम से उसे आश्रम भिजवा दिया गया जहां उसकी अब बेहतर देखरेख हो रही है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

परिवार के सभी मेंबर अच्छे ओहदों पर हैं तैनात
मनीष मिश्रा के परिवार की बात की जाए तो उनके भाई भी टीआई हैं, पिता व चाचा एडिशनल एसपी से रिटायर हुए हैं. चचेरी बहन दूतावास में तैनात है और मनीष मिश्रा के ज़रिए खुद 2005 तक नौकरी की गई है. आखिरी वक्त तक वह दतिया जिले में तैनात रहे इसके बाद दिमागी संतुलन खो बैठे. पत्नी से उनका तलाक हो चुका है जो अदालती सर्विस में तैनात है. लिहाजा इस सिलसिलाए वारदात से जितने यह अफसर हैरान हुए उतना ही और लोग भी हैरान हो रहे हैं लेकिन खुशी इस बात की है कि अब मनीष ग्वालियर के एक सामाजिक आश्रम में रह रहे हैं और उनका इलाज किया जा रहा है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

इंदौर

मध्यप्रदेश के इंदौर से एक मामला सामने आया है। जहां निरंजनपुर चौराहे के पास देररात पार्टी करके लौट रहे छह दोस्तों की कार सड़क...

मध्यप्रदेश

दिमाग से जुड़ी बीमारी का ऑपरेशन जटिल माना जाता है और वह मरीज के लिए भी मुश्किल होता है। परंतु आपने कभी सुना है...

मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिले में अंधविश्वास के चलते एक पति ने अपनी ही पत्नी का गला काट कर कुलदेवता को चढ़ा दिया। इस अंधविश्वास...

इंदौर

गोपुर चौराहे पर तोता लेकर भविष्य बताने वाले एक ज्योतिषी दंपती ने तलाकशुदा महिला को धमकाया औऱ झांसे में लेकर 20 लाख रुपए व...

मध्यप्रदेश

मध्य प्रदेश में कांग्रेस (Congress) से बगावत कर बीजेपी (BJP) नेता बने ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के राज्यसभा सांसद निर्वाचित होने को ग्वालियर हाईकोर्ट...

Advertisement
Advertisement
Advertisement
DMCA.com Protection Status