Connect with us

Hi, what are you looking for?

khabreelal

कोरोना वायरस

लॉकडाउन साइड इफेक्ट : 10 साल पिछड़ जाएगा भारत, बढ़ जाएंगे 10 करोड़ गरीब, अभी देश में 81 करोड़ लोग हैं गरीब

नाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी (यूएनयू) के एक रिसर्च के अनुसार, अगर कोरोना सबसे खराब स्थिति में पहुंचता है तो भारत में 104 मिलियन यानी 10.4 करोड़ नए लोग गरीब हो जाएंगे। यूएनयू ने विश्व बैंक द्वारा तय गरीबी मानकों के आधार पर यह आंकलन किया।

कोरोनावायरस का संक्रमण रोकने के लिए देश में लॉकडाउन है। लॉकडाउन का आर्थिक प्रभाव कम करने के लिए सरकार हरसंभव कदम उठा रही है। लेकिन, इसके बाद भी कुछ संकेत चिंताजनक हैं। यूनाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी (यूएनयू) के एक रिसर्च के अनुसार, अगर कोरोना सबसे खराब स्थिति में पहुंचता है तो भारत में 104 मिलियन यानी 10.4 करोड़ नए लोग गरीब हो जाएंगे। यूएनयू ने विश्व बैंक द्वारा तय गरीबी मानकों के आधार पर यह आंकलन किया। 


 कुल आबादी में गरीबों की संख्या 68 फीसदी हो जाएगी
रिसर्च के मुताबिक, विश्व बैंक के आय मानकों के अनुसार, भारत में फिलहाल करीब 81.2 करोड़ लोग गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे हैं। यह देश की कुल आबादी का 60 फीसदी हैं। महामारी और लॉकडाउन बढ़ने से देश के आर्थिक हालात पर विपरीत असर पड़ेगा और गरीबों की यह संख्या बढ़कर 91.5 करोड़  हो जाएगी। यह कुल आबादी का 68 फीसदी हिस्सा होगा।

10 साल की मेहनत पर पानी फिरने का खतरा

अगर यह आशंका सच साबित होती है तो देश 10 साल पहले की स्थिति में पहुंच जाएगा। दूसरे शब्दों में कहें तो भारत सरकार द्वारा बीते एक दशक में किए गए उपाय बेकार हो जाएंगे। 

Advertisement. Scroll to continue reading.
मेरठ प्रशासन द्वारा खाना पाकर इस बच्ची के चेहरे पर मुस्कान छा गई।


विश्व बैंक ने तय किए हैं गरीबी रेखा से नीचे के तीन मानक
विश्व बैंक ने आय के आधार पर देशों को चार भागों में बांटा है। इन देशों में गरीबी रेखा से नीचे रहने वालों के लिए तीन मानक तय हैं।

  • लोअर मिडिल आय वर्ग: जिन देशों में पर-कैपिटा सालाना औसत राष्ट्रीय आय 1026 डॉलर से 3995 डॉलर (78,438 रुपए से 3 लाख रुपए के बीच) के मध्य है, वो देश इस वर्ग में शामिल हैं। भारत भी इसी वर्ग में शामिल है। इन देशों में 3.2 डॉलर रोजाना (78 हजार रुपए सालाना) से कम कमाने वाले गरीबी रेखा से नीचे माने जाते हैं।
  • अपर मिडिल आय वर्ग: जिन देशों में प्रति व्यक्ति सालाना औसत आय 3996 डॉलर से 12,375 डॉलर के बीच है। वो देश इस वर्ग में शामिल हैं। इन देशों में 5.5 डॉलर या इससे कम कमाने वाली गरीबी रेखा से नीचे माने जाते हैं।
  • उच्च आय वर्ग: जिन देशों में प्रति व्यक्ति सालाना औसत आय 13375 डॉलर से ज्यादा है। वे देश इस वर्ग में शामिल हैं। इन देशों में गरीबी रेखा से नीचे के लोगों के लिए कोई मानक तय नहीं हैं। अर्थात इन देशों में कोई भी व्यक्ति गरीब नहीं है।
  • निम्न आय वर्ग: पर-कैपिटा सालाना आय 1026 डॉलर से कम वाले देशों को इसमें शामिल किया जाता है। इन देशों में रोजाना 1.9 डॉलर से कम कमाने वाले लोग गरीबी रेखा से नीचे माने जाते हैं।

अंतरराष्ट्रीय मानकों को मानें तो 7.6 करोड़ लोग होंगे अति गरीब
यदि गरीब देशों के लिए निर्धारित गरीबी के मानक 1.9 डॉलर रोजाना आय (करीब 145 रुपए) को मानें तो भारत में कोरोना संकट के कारण 15 लाख से 7.6 करोड़ अति गरीब की श्रेणी में शामिल हो जाएंगे। भारत में पर-कैपिटा सालाना आय यानी इनकम 2020 डॉलर (सालाना करीब 1.5 लाख रुपए) है। कुल आबादी में 22 फीसदी लोगों की आय 1.9 डॉलर प्रतिदिन से कम है। यहां यह बात गौर करने वाली है कि गरीबी रेखा वालों की आय महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजना (मनरेगा) के तहत मिलने वाले मानदेय से भी कम है।


सबसे खराब स्थिति में आय और खपत में 20 फीसदी की कमी होगी
यूएनयू ने स्टडी में पर-कैपिटा आय के तीनों मानकों के आधार पर वैश्विक स्तर पर गरीबी बढ़ने और आय व खपत घटने का अनुमान जताया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि सबसे खराब स्थिति में वैश्विक स्तर पर आय और खपत में 20 फीसदी की कमी आएगी। जिन देशों में 3.2 डॉलर से कम आय वाले गरीबी रेखा से नीचे माने जाते हैं, उनमें 8 फीसदी और आबादी गरीबों में शामिल हो जाएगी। रिसर्च के मुताबिक सबसे खराब स्थिति में लोअर मिडिल आय वर्ग वाले देशों में 54.1 करोड़ नए लोग गरीबी रेखा से नीचे आ जाएंगे। इस आर्थिक संकट के कारण पूरी दुनिया में पैदा होने वाले नए गरीबों में हर 10 में से 2 लोग भारत के होंगे।


कम से कम खराब स्थिति में 2.5 करोड़ नए लोग गरीब होंगे
कोरोना संकट की मध्यम खराब स्थिति में वैश्विक स्तर पर आय और खपत में 10 फीसदी की कमी होगी और भारत के करीब 5 करोड़ नए लोग गरीबी रेखा से नीचे आ जाएंगे। वहीं कम से कम खराब स्थिति में 2.5 करोड़ नए लोग गरीबी रेखा से नीचे आए जाएंगे। वैश्विक स्तर पर गरीबी इन्हीं पैटर्न के आधार पर बढ़ेगी। रिसर्च के मुताबिक, इस महामारी का सबसे ज्यादा असर साउथ एशिया में निम्न और लोअर मिडिल आय वर्ग वाले देशों पर पड़ेगा। रिसर्च में अनुमान जताया गया है कि वैश्विक स्तर पर पैदा होने वाले नए गरीबों में से दो-तिहाई सब-सहारा अफ्रीका और साउथ एशिया के नागरिक होंगे।


भारत के 40 करोड़ लोग और गरीब होंगे: आईएलओ
अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) ने इस माह की शुरुआत में भारत में रोजगार पर एक रिपोर्ट जारी की थी। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की टोटल वर्कफोर्स 50 करोड़ है। जिसका 90 फीसदी हिस्सा असंगठित क्षेत्र से है। कोरोना संकट के कारण 40 करोड़ से ज्यादा कामगार और गरीब हो जाएंगे। रिपोर्ट में ऑक्सफोर्ड कोविड-19 गवर्नमेंट रेस्पॉन्स स्ट्रिन्जेंसी इंडेक्स के हवाले से कहा गया है कि भारत में कोरोना संकट से निपटने के लिए अपनाए जा रहे लॉकडाउन जैसे उपायों से यह कामगार मुख्य रूप से प्रभावित होंगे। इन उपायों के कारण अधिकांश कामगार अपने गांवों को लौटने के लिए मजबूर हो जाएंगे। यदि आईएलओ का अनुमान सही रहता है तो असंगठित क्षेत्र में बेरोजगारी बढ़ेगी जिससे पर-कैपिटा आय और खपत में कमी होगी। इसी बात का जिक्र यूएनयू के अनुमान में किया गया है।

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement

You May Also Like

Movies & Web Series

Download Tamil Movies FREE Download करके देखना कौन पसंद नहीं करता, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इंटरनेट से Free Movie download करना या...

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ ( Chhattisgarh) के अम्बिकापुर जिले ( district Ambikapur) से एक घटना सामने आई है। जिसमें नौकरी व अच्छे लड़के से शादी कराने का...

आटोमोबाइल

Used Bikes, Pulsar 150 and Yamaha FZ: कोरोना काल में पब्लिक ट्रांसपोर्ट सुरक्षित नहीं है, ऐसे में आप बाइक खरीदना चाहते है, लेकिन नई बाइक...

भोपाल

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) में जैन इंटरनेशनल ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन द्वारा कार्यक्रम किया गया। जिसमें “जीतो भोपाल चैप्टर लेडीस विंग” में पदाधिकारियों का चुनाव...

देश

कृषि कानूनों (farm laws) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए किसान फतेहगढ़ साहिब से दिल्ली (Delhi) की तरफ आ रहे हैं। किसानों का...

मेरठ

उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां एक बदमाश ने एनएचआई के दफतर में फोन कर रंगदारी मांगी। रंगदारी...

देश

उत्तर प्रदेश के मेरठ में सर्विलांस व परतापुर थाना पुलिस ने एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है जोकि बिजली के तार चोरी करता था।...

देश

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) के पहले सीईओ और भारत की सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री (IT) के पितामह कहे जाने वाले फकीर चंद कोहली का बृहस्पतिवार को...

कानपुर

उत्तर प्रदेश की कानपुर (kanpur) कचहरी में लिपिक से मारपीट के विरोध में केडीए के कर्मचारियों ने हड़ताल कर जमकर नारेबाजी की। इस दौरान...

कानपुर

उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में बृहस्पतिवार को मंडलायुक्त ने मेट्रो स्टेशन (metro station) का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने आवश्यकत दिशा निर्देश दिए।...

टेक्नोलॉजी

तमाम अड़चनों के बाद आखिरकार PUBG India कंपनी को केंद्र सरकार से अप्रूवल मिल गया है। इसी के साथ PUBG इंडिया प्राइवेट लिमिटेड अब...

देश

भारतीय रेलवे (Indian Railway ) उच्च घनत्व नेटवर्क पर ट्रेनों की गति को उन्नत करने का प्रयास कर रहा है। जिसके चलते अनेक ट्रेनों...

Advertisement
%d bloggers like this: