Connect with us

Hi, what are you looking for?

khabreelal

कोरोना वायरस

245 वाली Corona test kit 600 रुपये में खरीदी सरकार ने! हाईकोर्ट ने लगाई लताड़, कहा-मुनाफाखाेरी नहीं चलेगी



कोरोना महामारी के चलते कई ऐसी बातें तो राजनीति गलियारों में ही दबी रह जाती थीं, बाहर आने लगी हैं। दिल्ली हाईकोर्ट के एक आदेश में कोरोना टेस्टिंग किटों (Corona test kit) की खरीद से संबंधित ऐसा आंकड़ा सामने आया है, जिसमें भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने 245 रुपये की रैपिड जांच किट 600 रुपये में खरीदी है।

एक याचिका की सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने भारत में जांच किट उपलब्ध कराने वाली कंपनियों के ख़िलाफ़ आदेश दिया है कि कोरोना जांच किट 400 रुपये से ज़्यादा दाम में नहीं बेची जानी चाहिए। कोर्ट का कहना था कि ‘जब देश अभूतपूर्व चिकित्सकीय संकट का सामना कर रहा है, तो कोरोना वायरस की महामारी को नियंत्रित करने के लिए लगातार जांच करना ज़रूरी है और इसलिए जांच किटों का सस्ती दरों पर बेचा जाना भी बेहद ज़रूरी है।

Corona test kit
Corona test kit

इस आदेश के साथ कंपनियों की किट खरीद और वितरण पर मुनाफ़ाखोरी के आंकड़े तो सामने आये ही, सरकार की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े हो गये हैं। याचिका लगाने वाली कंपनियों रेयर मेटाबॉलिक्स लाइफ साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड और आर्क फार्मास्यूटिकल्स ने चीन से भारत कोरोना जांच किटों की आयातक कंपनी मैट्रिक्स लैब के साथ समझौता किया है।

रेयर मेटाबॉलिक्स ने मैट्रिक्स लैब को 7 लाख 29 हज़ार कोविड-19 जांच किटों का ऑर्डर दिया गया था, जिसमें से 5 लाख किट आईसीएमआर को उपलब्ध करवाये जाने थे, जिसके लिए आईसीएमआर ने 600 रुपये/किट के हिसाब से समझौता कर ऑर्डर दिया था। आपूर्ति से पहले ही भुगतान की मांग को लेकर मैट्रिक्स लैब ने किटों की सप्लाई बीच में रोक दी थी, जिसको लेकर याचिका डाली गयी थी।

Advertisement. Scroll to continue reading.



अब सामने आया है कि चीन की कंपनी वॉन्डफो बायोटेक से खरीदकर भारत में कोरोना जांच किट आयात करने वाली कंपनी मैट्रिक्स लैब ने 245 रुपये प्रति किट के हिसाब से 12 करोड़ 25 लाख रुपये में किट हासिल किया। मैट्रिक्स लैब ने मुख्य डिस्ट्रीब्यूटर कंपनी रेयर मेटाबॉलिक्स को 400 रुपये प्रति किट के हिसाब से लगभग 21 करोड़ रुपये में किट बेचे। जिसके बाद रेयर मेटाबॉलिक्स का आईसीएमआर के साथ जांच किटों के लिए केंद्र सरकार द्वारा मान्य किये गये 600 रुपये/प्रति किट पर समझौता हुआ।

आईसीएमआर ने 27-28 मार्च को 5 लाख किटों का ऑर्डर दिया, जिसके लिए उसे 30 करोड़ रुपये चुकाने हैं। मतलब 12.25 करोड़ मूल्य के किटों के लिए 18.75 करोड़ रुपये ज़्यादा चुका रही है सरकार। यानी, मूल दाम में 145 फीसदी बढ़ोतरी के साथ आईसीएमआर ने टेस्ट किट खरीदे हैं।




आईसीएमआर को 2 लाख 76 किट की आपूर्ति करने के बाद, मैट्रिक्स लैब ने कहा था कि वह बाक़ी 2 लाख 24 हज़ार किटों की आपूर्ति तभी करेगा, जब उसे पूरा भुगतान कर दिया जायेगा। तमिलनाडु ने भी 50 हज़ार जांच किटों का ऑर्डर मैट्रिक्स लैब को दिया है, जिसमें से अभी 26 हज़ार किट आने बाक़ी हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

सरकार की किटों की खरीद तो अब सवाल के घेरे में है ही, एक और बात है जो मामले को संदिग्ध बनाती है। कोर्ट को रेयर मेटाबॉलिक्स ने बताया कि उसने मैट्रिक्स लैब के साथ द्विपक्षीय समझौता किया हुआ है, जिसके अनुसार मैट्रिक्स लैब से किट लेकर रेयर मेटाबॉलिक्स के अलावा अन्य कोई कंपनी वितरण का काम देश में नहीं कर सकती। कोरोना जैसे संकट के वक़्त किसी एक ही प्राइवेट वितरण कंपनी को इसकी इजाज़त कैसे दी जा सकती है। क्या केंद्र सरकार रेयर मेटाबॉलिक्स को फायदा पहुंचाना चाहती है?


इस कंपनी ने सरकार को महंगे दरों पर जांच किट भी उपलब्ध करवाये। आप गूगल पर रेयर मेटाबॉलिक्स लाइफ साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड के बारे में सर्च करें तो उसकी कोई वेबसाइट नहीं मिलती है। हमने zaubaCorp.com पर खोजा तो जानकारी मिली कि रेयर मेटाबॉलिक्स लाइफ साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड 22 मई 2015 को रजिस्टर हुई है। ऐसे में सवाल यह भी उठता है कि जिस कंपनी की स्थापना को 5 साल भी नहीं हुए, वह इतनी रसूखदार कैसे हो गयी? क्या उसे किसी किस्म की सरकारी ‘कृपा’ दी जा रही है? केंद्र सरकार को पारदर्शिता बरतते हुए इन सारे सवालों के जवाब देने ही चाहिए। आख़िर, जनता के पैसों को किसी कंपनी के फायदे के आगे कैसे फूंका जा सकता है?



Corona test kit पर 61 फीसदी मुनाफाखोरी

दिल्ली हाईकोर्ट ने मामले पर कहा कि 61 फ़ीसदी की मुनाफ़ाखोरी ज़रूरत से ज़्यादा है। न्यायमूर्ति नज़मी वजीरी ने किट के मूल दाम (245 रुपये/किट) और उसके आख़िरी खरीद मूल्य (600 रुपये/प्किट) में 145 फ़ीसदी के अंतर पर सवाल उठाया और कहा कि यह स्वीकार्य नहीं हो सकता है। मामले के सभी पहलुओं पर चर्चा करने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि ‘मौजूदा असामान्य परिस्थितियों में जब देश अभूतपूर्व चिकित्सकीय संकट से गुज़र रहा है, व्यक्तियों की सुरक्षा को लेकर चिंता बनी हुई है और अर्थव्यवस्था ठप हो गयी है, ऐसे में जनहित निजी हित से अधिक महत्वपूर्ण है।

पक्षों के बीच का यह मुकदमा व्यापक जनहित का रास्ता बनेगा। जांच किट 400 रुपये/किट से अधिक मूल्य पर नहीं बेची जानी चाहिए। हालांकि, कोर्ट का यह आदेश आईसीएमआर और तमिलनाडु को बेची जा रही किटों की कीमतों पर लागू नहीं होगा। इस पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं कि जब कोर्ट खुद कहता है कि हम असाधारण परिस्थितियों में हैं तो आईसीएमआर और तमिलनाडु द्वारा जांच किटों की खरीद भी मूल दाम में ही क्यों नहीं की जा सकती?

Advertisement. Scroll to continue reading.

खबरीलाल की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android, iOS Progressive News App के साथ अपने मोबाइल पर… क्लिक करें और जानें कैसे डाउनलोड करें Progressive News App
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi

Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement

You May Also Like

मेरठ

मेरठ में आयोजित एक शादी समारोह में कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन करने पर पहला मुकदमा दर्ज किया गया। मुकदमे में दूल्हा व दुल्हन...

देश

Cyclone Nivar के कारण चेन्नई में जारी भारी बारिश की वजह से कई जगहों पर भारी जलभराव हो गया है। बारिश और तेज़ हवा...

काम की खबर

आज यानी 25 नवंबर को बैंक (Bank) के जरूरी काम निपटा लें क्योंकि 26 नवंबर को देश के अधिकतर बैंकों (Bank) में कामकाज नहीं...

देश

बिहार विधानसभा (Bihar Vidhansabha) के शीतकालीन सत्र (Bihar Assembly Session 2020) में आज तीसरे दिन सदन में स्पीकर के चुनाव को लेकर हंगामा बना...

देश

कोरोना संक्रमण में तेजी देखते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य में नाइट कर्फ्यू (Night curfew) का आदेश दिया है। पंजाब...

देश

कांग्रेस (congress) के वरिष्ठ नेता व राजसभा (Rajyasabha) सांसद अहमद पटेल (Ahamad patel) का बुधवार सुबह करीब 3 बजे निधन हो गया। उनके पुत्र...

उत्तरप्रदेश

यूपी (Uttar Pradesh) में अब कोई भी सरकारी कर्मचारी 6 महीने तक हड़ताल नहीं कर पाएंगे। योगी सरकार ने प्रदेश में एस्मा लागू कर...

Movies & Web Series

download THATROM THOOKROM Web Series : mirzapur 2, aashram 2, laxmii bomb movie, chhallang देख चुके हैं तो 14 नवम्बर को रिलीज हुई फ़िल्म THATROM THOOKROM...

देश

कोरोना को लेकर केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने नई गाइडलाइन्स जारी की है। इसके मुताबिक राज्य और केन्द्र शासित प्रदेशों को कंटेनमेंट जोन में कड़ाई...

देश

कांग्रेस (congress) के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा (Rajyasabha) सांसद अहमद पटेल (Ahmad patel) के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, कांग्रेस...

Movies & Web Series

download Andhaghaaram movie : mirzapur 2, aashram 2, laxmii bomb movie, soorarai pottru, aakasam nee haddura movie Download करके देख चुके हैं तो Netflix आपके लिए...

काम की खबर

गूगल (Google) अपने डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म गूगल पे (Google Pay) से पीयर-टू-पीयर पेमेंट सर्विस (P2P payment Service) बंद करने जा रहा है। इस सर्विस...

Advertisement
%d bloggers like this: