Vivo Mobile कंपनी पर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने लगाया 52 हजार रुपए का जुर्माना

कूड़े का निस्तारण नहीं करने पर वीवो मोबाइल कंपनी (Vivo Mobile Company) पर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण (Greater Noida Authority) ने 52,500 रुपए का जुर्माना लगाया है।

 | 
vivo
कूड़े का निस्तारण नहीं करने पर वीवो मोबाइल कंपनी (Vivo Mobile Company) पर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण (Greater Noida Authority) ने 52,500 रुपए का जुर्माना लगाया है। प्राधिकरण की टीम ने कंपनी के अधिकारियों को चेतावनी दी है कि अगर कूड़े का उचित प्रबंधन नहीं किया गया तो जुर्माने की रकम दोगुनी कर दी जाएगी। दरअसल ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण शहर में कूड़ा फैलाने वालों पर लगातार कार्रवाई कर रहा है। प्राधिकरण ने 15 सितंबर 2020 से 11 अगस्त 2021 के बीच 179 बल्क वेस्ट जनरेटरों पर 59.14 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। Read Also : Jio Phone Next भारत में 10 सितंबर को होगा लॉन्च, 500 रुपये देकर घर ले जा सकते हैं आप
 

 

नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई
प्राधिकरण के डीजीएम सलिल यादव (जन स्वास्थ्य) के निर्देश पर मंगलवार को सहायक प्रबंधक वैभव नागर के नेतृत्व में टीम ने टेकजोन स्थित वीवो कंपनी की साइट पर जाकर जांच की। यहां टीम को कूड़े का उचित प्रबंधन नहीं मिला। कूड़ा इधर-उधर फेंका हुआ था। हर तरह का कूड़ा मिक्स था। उसे सेग्रिगेट नहीं किया जा रहा था और ना ही कूड़े को सही तरीके से निस्तारित किया जा रहा था। इस पर प्राधिकरण टीम ने वीवो कंपनी पर 52,500 रुपये का जुर्माना लगा दिया। जुर्माने की रकम एक सप्ताह में जमा कराने को कहा गया है। इस अवधि में न जमा करने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है। Read Also : शिखर धवन का हुआ तलाक! पत्नी आयशा ने इंस्टाग्राम पर लिखी इमोशनल पोस्ट
 

 

11 माह में 179 पर 59 लाख का जुर्माना
दरअसल शहर को स्वच्छ बनाने के लिए लोगों को जागरूक करने के साथ ही नियम तोड़ने वालों पर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ से कार्रवाई भी की जा रही है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने 15 सितंबर 2020 से 11 अगस्त 2021 के बीच 179 बल्क वेस्ट जनरेटरों पर 59.14 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। ये संस्थान कूड़े का वैज्ञानिक पद्धति से निस्तारण नहीं कर रहे थे। कुछ संस्थानों ने जुर्माने की रकम जमा नहीं की है। प्राधिकरण ने उन संस्थानों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है।

 

खुद से कूड़े का निस्तारण करना होता है
ग्रेटर नोएडा के सभी बड़े संस्थानों को खुद से कूड़े का निस्तारण करना होता है, सिर्फ अवशेष कूड़ा ही प्राधिकरण उठाता है। उसके लिए तय शुल्क जमा करना पड़ता है। बता दें कि 100 किलोग्राम या उससे अधिक कूड़ा जनरेट करने वाले संस्थान को बल्क वेस्ट जनरेटर की श्रेणी में रखा गया है।

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।