Snake Bite: मेरठ में सांप के डंसने से एक ही परिवार को दो बच्चों की मौत, गांव में मातम

इकरा ने आरिफ से कहा कि उसे कोई सुई जैसी चीज चुभी है, जिस पर आरिफ ने लाइट जलाकर देखा तो सामने एक काले रंग का बड़ा सांप नजर आया।

 | 
सांप

whatsapp gif

मेरठ (Meerut) के परीक्षितगढ़ थाना क्षेत्र के गांव आलमगीरपुर बढला में विषैले सांप के काटने (Snake Bite) से दो बच्चियों की मौत हो हई। रिश्ते में दोनों सगी बहने (Sisters) थीं। इस अनहोनी से परिजनों में चीख-पुकार मच गई, दो बच्चियों की असमय मौत से इलाके में मातम पसर गया। घटना मंगलवार रात की है, सांप काटने के बाद परिजन बच्चियों को अस्पताल भी लेकर गए, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। Read Also : Delhi Meerut Expressway: टोल का रेट कार्ड जारी, जानिए कब से शुरू होगी टोल टैक्स वसूली

 

dr vinit new

पिता से कहा- कोई सुई जैसी चीज चुभी

बताया गया कि किला परीक्षित गढ़ थाना क्षेत्र (Kila Parikshatgarh) के आलमगीर बढ़ला निवासी आरिफ की दो बच्चियां इकरा (10 वर्ष) और आलिया उम्र (8 वर्ष) और उनके दो भाई मंगलवार की देर रात पिता आरिफ और उसकी पत्नी रिहाना के साथ कमरे में सोए थे। इसी दौरान इकरा ने आरिफ से कहा कि उसे कोई सुई जैसी चीज चुभी है, जिस पर आरिफ ने लाइट जलाकर देखा तो सामने एक काले रंग का बड़ा सांप नजर आया। इससे पहले कि परिजन कुछ करते सां इकरा और आलिया को डंस चुका था और नाली के रास्ते घर से बाहर निकल गया।  Read Also : मेरठ पुलिस के वीर इंस्पेक्टर विजेंद्र राणा पर भ्रष्टाचार का मुकदमा, ट्रक चोरी के मुकदमे में लाखों की डील में फंसे

 

 

परिवार में मचा कोहराम
सांप के काटने से इकरा और आलिया की हालत बिगड़ गई, परिजन उन्हें अस्पताल लेकर निकले, लेकिन रास्ते में छोटी बेटी आलिया की मौत हो गई, जबकि रिहाना को अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन उसने भी कुछ देर बाद दम तोड़ दिया।  दो बच्चियों की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया।

 

devanant hospital

सांप से दहशत का माहौल
सूचना पर थाना पुलिस और एसडीएम मवाना मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। परिजनों ने पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया और दोनों के शवों को सुपुर्द ऐ खाक कर दिया गया। वहीं सांप को अभी भी घर मे ही मौजूद होना बताया जा रहा है जिससे गांव में दहशत का माहौल बना हुआ है। सांप को पकड़ने के लिये सपेरों को बुलाया गया है।

 

रात में कहा था- मम्मी स्कूल जाना है
दोनों बच्चियां आलमगीरपुर गांव के प्राथमिक स्कूल में पढ़ती थीं। इकरा कक्षा 4 जबकि आलिया कक्षा 2 की छात्रा थी। बुधवार को डेढ़ साल बाद स्कूल खुलने थे, जिसके चलते दोनों बच्चियां बहुत खुश थीं। इकरा ने मंगलवार रात ही सोने से पहले अपनी मां से कहा था कि मम्मी सुबह स्कूल जाना है। मगर, इससे पहले ही बच्चों की मौत हो गई।

ortho

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।