Connect with us

Hi, what are you looking for?

आटोमोबाइल

सरकार ने कहा क्वालिटी सुधारें कार कंपनियां, भारत में अमेरिका से 10 गुना कम सड़क हादसे, फिर भी मरने वाले 5 गुना अधिक

देश में अनेक सड़क दुर्घटनाओं में कार की क्वालिटी को लेकर कई बार सवाल खड़े होते हैं। इतना ही नहीं, सरकार ने इसे नजर अंदाज नहीं किया। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सरकार ने घटियां क्वालिटी की कार निर्माण पर चिंता व्यक्त की है। इतना ही नहीं भारतीय ऑटोमोबाइल संघ (SIAM) कराए गए एक कार्यक्रम में सड़क एवं परिवहन मंत्रालय के सचिव गिरधर अरमाने ने कंपनियों से उचित निर्माण गुणवत्ता को अपनाने की बात कही है।

car quality

उन्होंने कार्यक्रम के दौरान कहा कि कई बार देखा गया है। की दुर्घटना के समय कारों में दिए जाने वाले फीचर ठीक से काम नहीं कर पाते हैं क्योंकि उनकी गुणवत्ता ठीक नहीं होती है। जिसके चलते ग्राहक को पैसे के नुकसान के साथ, स्वास्थ्य को भी नुकसान पहुंचता है। क्योंकि पिछले कुछ आंकड़ों पर नजर डालें तो नई तकनीक आने के बावजूद भी कार से होने वाली दुर्घटनाओं में लोगों की मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इतना ही नहीं कपंनियां सिर्फ महंगी कारों में ही अच्छी गुणवत्ता का इस्तेमाल कर रहीं है। छोटी व सस्ती कारों के साथ खिलवाड़ किया जाता है।

यह भी पढ़ें – महज 59 हजार रुपये डाउन पेमेंट देकर घर लाएं 7 सीटर Renault Triber कार।

उन्होंने बताया कि देश में केवल कुछ कार कंपनियां हैं जो अपनी सभी कारों का निर्माण सुरक्षा मानकों के अनुसार करती हैं। उन्होने कहा कि वे भारत में कार कंपनियों द्वारा सुरक्षा मानकों की अनदेखी से हैरान हैं। उन्होंने कार कंपनियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कार कंपनियां घटियां क्वालिटी अपनाकर ज्यादा मुनाफा कमाने के चक्कर में लगीं हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

सचिव ने कहा, “कार कंपनियां सड़क सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। वाहन निर्माताओं को अपने वाहन को सुरक्षित बनाने में कोई कसर नहीं छोड़नी चाहिए। लेकिन यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कंपनियां कारों की क्वालिटी ख़राब कर रही है। कंपनियों की यह मानसिकता ग्राहकों पता तक नहीं होती है। अरमाने ने पिछले कुछ वर्षों में ग्लोबल एनकैप द्वारा टेस्ट की गई कुछ भारतीय कारों की खराब क्वालिटी पर सवाल उठाया है।

car

भारतीय ग्राहकों को मिल रहा धोखा

उन्होंने कहा कि एक्सपोर्ट की जाने वाली कारों की क्वालिटी देश में बेचे जाने वाले मॉडलों से बेहतर रखी जाती है। अरमाने ने सवाल उठाते हुए कहा कि यह भारतीय ग्राहकों को धोखा देने जैसा ही है। अरमाने ने एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट के हवाले से कहा कि अमेरिका में साल 2018 में 45 लाख सड़क हादसे हुए जिसमे 36,560 लोगो की मौतें हुई, जबकि भारत में इसी साल 4.5 लाख सड़क हादसे हुए जिसमे 1.5 लाख से अधिक मौतें हुईं थी।

यह भी पढ़ें – Passion I-Smart से लेकर Honda Livo तक, ये हैं 110 सीसी की सेफ्टी फीचर्स वाली बाइक।

भारत में अमेरिका से 10 गुणा कम हादसे पर मरने वालों की संख्या 5 गुणा अधिक

इस रिपोर्ट के तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में अमेरिका के मुकाबले सड़क हादसे 10 गुणा कम हैं लकिन मरने वालों की संख्या पांच गुणा अधिक है। इसके लिए वाहनों में मिलने वाले खराब सेफ्टी फीचर्स भी जिम्मेदार हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

Khabreelal News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… हमारी कम्युनिटी ज्वाइन करे, पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें

Whatapp ग्रुप ज्वाइन करे Join
Youtube चैनल सब्सक्राइब करे Subscribe
Instagram पर फॉलो करे Follow
Faceboook Page फॉलो करे Follow
Tweeter पर फॉलो करे Follow
Telegram ग्रुप ज्वाइन करे Join
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Advertisement
Advertisement
Advertisement
DMCA.com Protection Status